Arthgyani
होम > Interest Rate Sensitivity – इंटरेस्ट रेट सेन्स्टिविटी

Interest Rate Sensitivity – इंटरेस्ट रेट सेन्स्टिविटी

« Back to Glossary Index

इंटरेस्ट रेट सेन्स्टिविटी से पता चलता है की जब इंटरेस्ट रेट ऊपर निचे होता है तब फिक्स्ड इनकम एसेट की प्राइस ऊपर निचे होने लगती है |

रेट सेन्स्टिविटी एसेट एक प्रकार के बैंक एसेट है | बांड,लोन एंड लीस ऐसे एसेट है जिनका इंटरेस्ट रेट ऊपर नीचे होता रहता है|

एसेट सेन्स्टिविटी एक प्रकार की बैलेन्स शीट है जिसमे एसेट की प्राइस देनदारियो से तेज़ बढती है एसेट का रेट लम्बे समय के लिये लॉक नहीं किया जा सकता है|

म्यूचुयल फंड्स न्यूज

बाजार की ताजा खबर

« Back to Glossary Index