Arthgyani
होम > Rupee Cost Averaging – रूपी कॉस्ट एवरेजिंग

Rupee Cost Averaging – रूपी कॉस्ट एवरेजिंग

« Back to Glossary Index

यह एक प्रकार की स्कीम है जिसमे निवेशक को नियमित अन्तराल पर पैसे भरने होते है जिसमे अगर शेयर्स की प्राइस ज्यादा है तो निवेशक कम स्टॉक्स लेगा और अगर शेयर्स की प्राइस कम है तो वह ज्यादा शेयर्स ख़रीदेगा|

वैल्यू कॉस्ट एवरेजिंग एक मार्किट स्ट्राटेजी है जो डॉलर कॉस्ट एवरेजिंग की तरह काम करती है जिसमे निवेशक को हर महीने मार्किट के हिसाब से पैसे इन्वेस्ट करने होते है|

कॉस्ट एवरेजिंग का मतलब होता है कि निवेशक को हर महीने अपनी पगार में से कुछ हिस्सा निवेश करना होता है जो की उसके बुढ़ापे में उसकी आय होती है जिसे डॉलर कॉस्ट एवरेजिंग भी कहा जाता है|

म्यूचुयल फंड्स न्यूज

लेटेस्ट फाइनेंस न्यूज़ हिन्दी

« Back to Glossary Index