Arthgyani
होम > व्यक्तिगत निवेश > निवेश

सरकारी कम्पनियों में निवेश फ़ायदेमंद साबित हो सकता है

आने वाले समय में सरकारी कंपनियों का मूल्यांकन आकर्षक हो सकता है।

सरकारी कंपनियों में विनिवेश को लेकर सरकार के जिस तरह से रुख दिखाई दे रहे हैं, ऐसे में आने वाले समय में इन कंपनियों का मूल्यांकन आकर्षक हो सकता है और निवेशकों को इन शेयरों में निवेश करने से बेहतरीन फ़ायदे मिल सकने की पूरी संभावना है

भारत में बाज़ार पूंजीकरण के लिहाज से 25 बड़ी कंपनियों में से 5 सरकारी कंपनियां हैं और कुल सरकारी कंपनियों का बाज़ार पूंजीकरण पर 12 फीसदी हिस्सा है। जबकि निफ्टी की 50 कंपनियों में से 8 सरकारी कंपनियां हैं। जानकारों के मुताबिक फंड मैनेजर एक्टिव फंडों के बेहतर रिटर्न देने में प्रमुख निभा सकते हैं। 

  • सरकारी कम्पनियों में निवेश फ़ायदेमंद
  • कुल सरकारी कंपनियों का बाज़ार पूंजीकरण पर 12 फीसदी हिस्सा है।
  • एक्टिव फंड दे सकते है बेहतर रिटर्न।
  • IRCTC ने हाल में बेहतरीन प्रदर्शन किया है
  • इनवेस्को इंडिया के लिए सलाहकार की मंजूरी है
  • मौजूदा समय में सरकारी कंपनियों के शेयर सस्ते हैं और इनका कॉर्पोरेट गवर्नेंस अच्‍छा है।

सूत्रों के मुताबिक हाल के समय में पीएसयू फंडों ने बेहतर रिटर्न दिया है और आगे सरकार के फोकस की वजह से इसमें इससे ज़्यादा बेहतरीन प्रदर्शन की गुंजाइश हो सकती है। फंड मैनेजरों का मानना है कि आगे चलकर सरकारी कंपनियों में विनिवेश से इनको फ़ायदा हो सकता है। इस समय देखा जाए तो ज़्यादातर सरकारी कंपनियों के मूल्यांकन सस्ते हैं और इनका कॉर्पोरेट गवर्नेंस भी अच्‍छा है। साथ ही विनिवेश या रणनीतिक बिक्री से इनके मूल्यों में तेजी आ सकती है। ये फंड उन निवेशकों के लिए उपयुक्त है जो इस तरह के निवेश में थोड़ा जोख़िम ले सकते हैं। इस सेक्टर में इनवेस्को इंडिया प्राइवेट सेक्टर यूनिट का फंड एक ऐसा फंड है जो पीएसयू कंपनियों में निवेश करता है और यह बेहतरीन ट्रैक रिकॉर्ड वाला फंड है और इसमें निवेशक चाहें तो सलाहकारों से सलाह लेकर एक्सपोजर ले सकते हैं। फंड मैनेजरों के मुताबिक अधिकतर सरकारी कंपनियों का पुनर्गठन हो रहा है और कुछ के शेयर तो स्टॉक एक्सचेंज़ पर सूचीबद्धता के बाद बेहतर प्रदर्शन किए हैं जिसमें आईआरसीटीसी वर्तमान में सबसे बेहतर रिटर्न दिया है और हाल में भारत पेट्रोलियम के उठते दामों ने ये साबित किया है की निवेशकों के लिए सरकारी कम्पनियों में निवेश एक बेहतर क़दम हो सकता है।