Arthgyani
होम > न्यूज > सरकार इनकम टैक्स रेट में भी कटौती कर सकती है:विवेक देबरॉय

सरकार इनकम टैक्स रेट में भी कटौती कर सकती है:विवेक देबरॉय

मोदी सरकार अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए कई क़दम उठा रही है

मोदी सरकार अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए कई क़दम उठा रही है| आर्थिक स्थिति से गुजरने के लिए सरकार ने कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती की गई| प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार समिति के मुखिया विवेक देबरॉय का कहना है कि, कॉर्पोरेट टैक्स में कमी की गई है, सरकार जल्द से जल्द इनकम टैक्स रेट में भी कटौती करेगी। हालाँकि टैक्स की दर कम होने के साथ छूट की व्यवस्था खत्म हो सकती है। नीति आयोग के पूर्व वॉइस चेयरमैन अरविंद पनगढ़िया ने बताया, ‘टॉप पर्सनल इनकम टैक्स रेट को कॉर्पोरेट प्रॉफिट टैक्स रेट के बराबर 25 फीसदी छूट खत्म कर देने से भ्रष्टाचार पर लगाम लगेगी और टैक्स विवाद कम होंगे। टैक्स बेस बढ़ने से टैक्स रेट में कटौती का असर नहीं होगा।

बता दें, नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी का कहना है कि, “भारतीय अर्थव्यवस्था अनियंत्रित गिरावट की ओर जा रही है। यह ऐसा समय है कि वित्तीय स्थिरता की चिंता नहीं करते हैं, बल्कि डिमांड की चिंता अधिक होती है। इस समय अर्थव्यवस्था में डिमांड की बड़ी समस्या है। इनकम टैक्स में कटौती का मतलब है, उपभोक्ता के हाथ में अधिक पैसा रखकर डिमांड में तेजी आए जिससे मंदी को दूर किया जा सकेगा|

विदित हो, इनकम टैक्स द्वारा सरकार को सौंपी गई रिपोर्ट में देखा गया कि टैक्स दर में कमी करते हुए 5%, 10% और 20% टैक्स स्लैब का सुझाव दिया गया है, जो अभी 5%, 20% और 30% है। अमेरिकी बैंक मेरिल लिंच की रिपोर्ट के मुताबिक, टैक्स स्लैब में कमी होती है तो इससे राजस्व पर 1.75 लाख करोड़ रुपये का असर होगा, जिसमें से 1 लाख करोड़ का बोझ केंद्र सरकार उठाएगी और 75 हजार करोड़ रुपये की भरपाई राज्य सरकारों को करनी होगी।