Arthgyani
होम > न्यूज > सर्वाधिक बजट पेश करने का कीर्तिमान मोरारजी देसाई के नाम

सर्वाधिक बजट पेश करने का कीर्तिमान मोरारजी देसाई के नाम

संसद में 10 बार बजट पेश करने का कीर्तिमान

बजट-2020 की उलटी गिनती शुरू हो गयी है|वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी को बजट पेश करेंगी|आर्थिक सुस्ती के दौर में प्रस्तुत होने वाला ये बजट देश की अर्थव्यवस्था के आगामी वित्त वर्ष के लक्ष्यों का निर्धारित करेगा|बजट की देश की अर्थव्यवस्था में बड़ी भूमिका होती है|आजादी की विपन्न अर्थव्यवस्था से 5 ट्रिलियन डालर की इकोनमी बनने के लक्ष्य में बजट ने प्रभावी भूमिका का निर्वाह किया है|इस दौरान देश ने कई वित्त मंत्रियों कि कार्यकुशलता अनुभव किया|इन वित्त मंत्रियों में एक नाम है पूर्व वित्त मंत्री स्व मोरारजी देसाई का|मोरारजी देसाई के नाम सर्वाधिक 10 बार बजट पेश करने का कीर्तिमान है|

वित्त मंत्री के रूप में कार्यकाल:

साल 1958 से वित्त मंत्रालय का कार्यभार संभालने वाले मोरारजी देसाई ने आर्थिक योजना एवं वित्तीय प्रशासन से संबंधित मामलों पर अपनी सोच को कार्यान्वित किया। रक्षा एवं विकास संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए उन्होंने राजस्व को अधिक बढ़ाया, अपव्यय को कम किया एवं प्रशासन पर होने वाले सरकारी खर्च में मितव्ययिता को बढ़ावा दिया। उन्होंने वित्तीय अनुशासन को लागू कर वित्तीय घाटे को अत्यंत निम्न स्तर पर रखा। वे वित्त मंत्री के रूप में समाज के उच्च वर्गों द्वारा किये जाने वाले फिजूलखर्च को प्रतिबंधित एवं नियंत्रितत करने के हिमायती थे| मोरारजी देसाई पहली बार 13 मार्च, 1958 से 29 अगस्त, 1963 तक देश के वित्तमंत्री रहे थे|उसके बाद मार्च 1967 से जुलाई 1969 तक फिर उन्होंने वित्तमंत्री की जिम्मेदारी संभाली|

10 बार बजट पेश करने का कीर्तिमान:

प्रधानमंत्री के रूप में अल्पकाल की शाशन समय में नोट्बंदी जैसा कड़ा निर्णय लेने वाले मोरारजी देसाई ने वित्त मंत्री का लंबा कार्यकाल देखा|विदित हो कि उन्होंने प्रधानमंत्री रहते हुए 100 के नोट को बंद किया था|उन्होंने 1978 में नोटबंदी का कठोर निर्णय लिया था|वित्त मंत्री के रूप में उनका कार्यकाल उल्लेखनीय था|उन्होंने संसद में सकार के 10 बजट पेश किए, जिनमें से आठ पूर्ण बजट, जबकि दो अंतरिम बजट थे|काबिलेगौर है कि वर्ष 1964 और 1968 का बजट उन्होंने अपने जन्मदिन पर संसद में पेश किया था| उनके बाद नंबर आता है चार बार वित्त मंत्री रह चुके पी. चिदम्बरम का जिन्होंने   आठ बार केंद्रीय बजट संसद में पेश किया|