Arthgyani
होम > म्यूच्यूअल फंड > सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP)

SIP क्या है? म्यूचुअल फंड में यह किस तरह है सहायक!

SIP में निवेशक के पास निर्धारित राशि को कम या ज्यादा करने का विकल्प होता है

व्यक्ति जब अपना कीमती समय निकालकर म्यूचुअल फंड में निवेश करता है, लेकिन शेयर बाजार के रेट में उतार चढ़ाव की वजह से घबराता भी है| कहीं न कहीं डर बना रहता है कि निवेश की गई राशि कहीं डूब ना जाए|ऐसी परिस्तितियों से निपटने के लिए SIP अर्थात् सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान को समझना सही रहेगा| SIP इन सभी परेशानियों से निपटने का बेहतर प्लान है|

सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान SIP क्या है?

सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान इस तरह का प्लान है जिसमें हर महीने एक निश्चित रकम को आप अपने पसंदीदा म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) स्कीम में निवेश कर सकते हैं| SIP के प्लान को इक्विटी म्यूचुअल फंड के द्वारा शुरू किया जा सकता है|विशेषज्ञों के अनुसार SIP के द्वारा निवेश करने पर अच्‍छा रिटर्न मिलने की संभावनायें काफी बढ़ जाती हैं|आइये जानते हैं SIP के बारे में और कैसे है सहायक|

आइये जानते हैं SIP के बारे में और कैसे है सहायक!

  1. किसी भी म्यूचुअल फंड (Mutual Fund ) स्कीम में SIP शुरू करने की रकम सिर्फ 500 या 1000 रूपये महीने है, जिससे  SIP प्लान की शुरुआत कर सकते हैं|
  2. SIP निर्धारित दिन में आपकी पसंदीदा म्यूचुअल फंड स्कीम में तय की गई राशि को बैंक अकाउंट से लेकर फंड में निवेश कर देता है|
  3. SIP को आप अपने हिसाब से तय की गई अवधि के लिए शुरू कर सकते हैं| हर महीने एक निश्चित राशि डाली जाती है, जिसे निवेशक SIP को अपने हिसाब से कस्टमाइज कर सकते हैं|
  4. SIP में निवेशक के पास निर्धारित राशि को कम या ज्यादा करने का विकल्प होता है|
  5. शेयर बाजार में तेजी होने पर कितनी राशि निवेश करना है यह एलर्ट SIP के जरिये निवेशकों को सूचना प्राप्त हो जाती है|
  6. जब आपका फंड में निवेश का लक्ष्य पूर्ण हो जाता है तो समाप्ति की तारीख चुनने के बजाय दीर्घकालीन SIP निवेशकों को सूचना देकर बंद करने में सहायक होता है|
  7. जब आपका फंड में निवेश का लक्ष्य पूर्ण हो जाता है तो समाप्ति की तारीख चुनने के बजाय दीर्घकालीन SIP निवेशकों को सूचना देकर बंद करने में सहायक होता है| इसमें किसी भी तरह की कोई पेनल्टी नहीं लगती है|
  8. निवेशक अपने निवेश की गई रकम की वैल्‍यू रोजाना जान सकता है| सभी म्‍युचुअल फंड कंपनियां अपनी नैट आसेट वैल्‍यू (NAV) प्रतिदिन अपडेट करती हैं|
  9. निवेशक जब चाहे Mutual Fund स्‍कीम्‍स में डिविडेंड का विकल्‍प चुन सकते हैं| जिसमें कंपनियां समय-समय लाभ अर्जित कराती हैं|
  10. SIP के माध्यम से छोटी छोटी बचत से निवेशकों को बड़ी बड़ी राशियों की बचत करने की आदत पड़ जाती है|

म्यूचुअल फंड में SIP के फंडे

विशेषज्ञों के अनुसार SIP से निवेश करने पर सबसे अच्‍छा रिटर्न मिलने की संभावनायें रहती हैं| इस तरह से 100 या 500 रुपए के न्‍यूनतम निवेश से म्‍युचुअल फंड में शुरुआत में इन्वेस्ट करना काफी आसान है| जब व्यक्ति 10 साल तक केवल 1000 रुपए का ही निवेश करेगा तब 2.38 लाख रुपए होगा|जबकि निवेश की राशि केवल 1.20 लाख रुपए होगी| मतलब हर महीने यह निवेश 10 साल में लगभग दोगुना होगा|यदि 1000 रुपए महीने की सिप (SIP) पर अगर 9% की दर से रिटर्न मिले तो 10 वर्षों में यह रिटर्न बढकर 6.69 लाख रुपए होता है| वहीं 30 साल में  रिटर्न 17.38 लाख रुपए और 40 साल में 44.20 लाख रुपए हो होने की संभावनाएं होती हैं|