Arthgyani
होम > न्यूज > ‘लाइफ टाइम हाई’ छूने के बाद भारी नुकसान के साथ बंद हुआ शेयर बाज़ार

‘लाइफ टाइम हाई’ छूने के बाद भारी नुकसान के साथ बंद हुआ शेयर बाज़ार

सकारात्मक संकेतों की वजह से भारतीय शेयर बाज़ार के दोनों प्रमुख सूचकांकों ने रिकॉर्ड बढ़त के साथ की शुरुआत

भारतीय घरेलू शेयर बाजारों ने सत्र के सभी उच्चतम स्तर पर शुरुआत करने के बाद सोमवार को अपने सभी इंट्राडे लाभ को पीछे छोड़ दिया| जहां BSE के सेंसेक्स 317.63 अंक बढ़कर 42,263.00 पर खुला, NSE निफ्टी बेंचमार्क ने सत्र 12,430.50 पर शुरू किया, जो पिछले बंद से 78.15 अंक ऊपर था| यह दोनों सूचकांकों की रिकॉर्ड ऊंचाई है| ज्ञात हो कि शुक्रवार को सेंसेक्स 41,945.37 अंक और निफ्टी 12,352.35 अंक पर बंद हुआ था| वहीं दूसरी ओर डॉलर के मुकाबले आज रुपया 71.10 के स्तर पर खुला| पिछले कारोबारी दिन डॉलर के मुकाबले रुपया 71.08 के स्तर पर बंद हुआ था|

दमदार शुरुआत के बाद ये है हाल 

ज्ञात हो कि आज बैंकिंग और IT के शेयरों में नुकसान से उपभोक्ता वस्तुओं और धातु शेयरों में लाभ हुआ| शुरुआती कारोबार में ज्यादातर शेयर उछाल के साथ कारोबार करते नजर आ रहे थे, मगर जल्द ही यह उंचाई ताश के महल के जैसा ढह गया और सेंसेक्स 416.46 अंक गिरकर 41,528.91 पर बंद हुआ| निफ्टी की क्लोजिंग 127.80 प्वाइंट नीचे 12,224.55 पर हुई| काराबोर के दौरान सेंसेक्स 41,503.37 तक और निफ्टी 12,216.90 तक फिसल गया था| ट्रेंड देख कर ऐसा लग रहा है जैसे निवेशकों ने मुनाफावसूली के शेयरों में खरीददारी की, फिर बिकवाली कर मुनाफावसूली कर ली हो|

बाज़ार में है हलचल, ये हैं कारण

  1. बजट- निवेशकों में बजट को लेकर संसय का महौल है| एक फरवरी को पेश होने वाले आम बजट को लेकर उम्मीदों से इस सप्ताह शेयर बाजार की दिशा तय होगी|
  2. विदेशी कारक- कच्चे तेल की कीमतों, रुपये की चाल और विदेशी निवेशकों के रुख भी बाजार को प्रभावित कर रहे हैं|
  3. तिमाही रिपोर्ट- कुछ कंपनियों की तिमाही रिपोर्ट आ चुकी है, वहीं इस सप्ताह भी कोटक महिंद्रा बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, एक्सिस बैंक, केनरा बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा के तिमाही परिणाम आने हैं| ये सभी तिमाही रिपोर्ट इस सप्ताह के शेयर बाज़ार के उतार-चढाव के कारक बन सकते हैं|
  4. अमेरिकी कारक- विश्लेषकों का कहना है कि अमेरिका-ईरान तनाव कम होने और अमेरिका एवं चीन के बीच पहले चरण के व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर शेयर बाजार की हालिया तेजी के प्रमुख वजह हैं|