Arthgyani
होम > न्यूज > बजट 2020

हम बजट पूर्व परामर्श की शुरुआत कर रहे हैं: वित्त मंत्री

बजट पूर्व परामर्श सोमवार से शुरू हो रहे हैं

मुझे उम्मीद है कि नीतिगत हस्तक्षेप जल्द ही परिणाम देने शुरू कर देंगे|विभिन्न क्षेत्रों के संबंध में हमने मांगों के अनुसार दखल दिया है| मैं इन कदमों के परिणामों को देखने को उत्सुक हूं|हम सोमवार से बजट-पूर्व परामर्श शुरू कर रहे हैं| ये बातें केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहीं| वे अर्थव्यवस्था संबंधित विषयों पर चर्चा कर रही थी|

बजट 45 दिनों बाद:

बता दें कि वित्त वर्ष 2020 के लिए केंद्रीय बजट 45 दिनों बाद आने वाला है| ऐसे में वित्त मंत्री का पूरा ध्यान अर्थव्यवस्था की समस्याओं के समाधान एवं प्रोत्साहन पर केंद्रित है| अतः वे इस इस आशय के सुझावों का स्वागत कर रही हैं| निर्मला सीतारमण ने कहा कि वित्त वर्ष 2020-21 के बजट में अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए ‘सेक्टोरियल इंटरवेंशन’ के लिए तैयार हैं, अगर सुझाव बजट पूर्व परामर्श के दौरान उनके नोटिस में लाए जाते हैं|विदित हो, कि यह बजट पूर्व परामर्श सोमवार से शुरू हो रहे हैं|केंद्रीय मंत्री ने इस संबंध में सभी की सहभागिता को आमंत्रित किया है|

अर्थव्यवस्था की मजबूती पर होगा ध्यान:

मोदी सरकार भारतीय अर्थव्यवस्था 5000 ट्रिलियन डालर बनाने की बात कई बार कह चुकी है| सरकार की इस संबंध में की गयी कोशिशें फिलहाल कारगर होती नजर नहीं आ रही| चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में देश की जीडीपी विकास दर घटकर 4.5 फीसदी पर पहुंच गई है, जो साढ़े छह वर्षों का सबसे निचला स्तर है| रिजर्व बैंक समेत विश्व की तमाम रेटिंग एजेंसियां अभी और गिरावट की बात कह रही हैं| वित्त मंत्री नॉर्थ ब्लॉक में संघों और व्यापार निकायों के साथ ‘उद्योग, सेवाओं और व्यापार’ पर ध्यान केंद्रित करते हुए बजट पूर्व परामर्श आयोजित करेंगी| इस परामर्श में  उद्योग, सेवाएं और व्यापार सेक्टरों को बढ़ावा देने के विषय पर चर्चा की जाएगी| इस बैठक में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए उपयोगी उपायों की घोषणा भी कर सकती हैं|