Arthgyani
होम > म्यूच्यूअल फंड > हाईब्रिड म्युचुअल फंड

हाईब्रिड म्युचुअल फंड क्या है? Hybrid Mutual Fund

इन्हें संतुलित फंड्स भी कहा जाता है

छोटे निवेश से बड़ी पूँजी बनाने के लिए निवेशक प्रायः म्युचुअल फंड में निवेश करते हैं|इन दिनों बाजार के उतार चढ़ाव से निवेशक निवेश को लेकर डरे हुए हैं| म्युचुअल फंड (Mutual Fund) में  कंपनियां निवेशकों से पैसे जुटाती हैं|एकत्र पैसे को वे शेयरों में निवेश करती हैं। इसके बदले निवेशकों से चार्ज भी लिया जाता है। इस इन्वेस्टमेंट में विशेषज्ञ जिन्हें फंड मैनेजर भी कहते हैं निवेश की गयी धनराशि कि देखभाल करते हैं| जो लोग शेयर बाजार में निवेश के बारे में बहुत ज्यादा नहीं जानते या उनके लिए म्युचुअल फंड में निवेश का अच्छा विकल्प है। निवेशक को  अपने वित्तीय लक्ष्यों के हिसाब से अलग अलग  Mutual Fund स्कीम चुनने की पूरी आजादी मिलती है।

क्या है हाईब्रिड म्युचुअल फंड?

निवेश का मूल मन्त्र है कम जोखिम के साथ सुरक्षित रिटर्न मिले|निवेश पोर्टफोलियो की विविधता भी आवश्यक अवयव है|इन दोनों आधारों को देखें तो हाईब्रिड म्युचुअल फंड निवेश का सबसे बेहतर विकल्प हैं|हाईब्रिड म्युचुअल फंड वो फंड होते हैं|जिनमे एक साथ ही इक्विटी, डेट और गोल्ड में निवेश का मौका मिलता है|इन्हें संतुलित फंड्स भी कहा जाता है|

हाईब्रिड म्युचुअल फंड के लाभ:

  1. हाईब्रिड म्युचुअल फंड  के द्वारा 3 तरह के एसेट क्लास में निवेश किया जा सकता है|इनमें इक्विटी, डेट और गोल्ड शामिल हैं|
  2. बाजार के उतार चढ़ाव का जोखिम को देखते हुए लंबी अवधि के निवेश की सुविधा|  ध्यान में रखकर एग्रेसिव हाइब्रिड स्कीमों में पैसा लगा सकते हैं|
  3. निवेश की विविधता अर्थात आपकी निवेश राशि में इक्विटी का हिस्सा लंबे समय में रिटर्न देता है तो डेट की हिस्सेदारी आपको स्थिरता देते हुए जोखिम से बचाती है|अतः हाईब्रिड म्युचुअल फंड अच्छे रिटर्न देने वाला सुरक्षित विकल्प है|
  4. छोटी पूँजी से भी निवेश की सुविधा|आप एसआईपी के माध्यम से छोटी राशि से भी इन फंड्स में निवेश कर सकते हैं|
  5. इन फंड्स में की सबसे बड़ी विशेषता है निवेश की सुगमता|आप ऑनलाइन भी कर सकते हैं हाइब्रिड फंड्स में निवेश|
  6. जिन संतुलित फंड्स में इक्विटी की हिस्सेदारी 65 फीसदी से अधिक होती है, उनपर इक्विटी फंड्स के हिसाब से ही टैक्स लगता है| एक साल से अधिक समयावधि पर बरकरार रखने पर इस तरह के फंड्स पर मिलने वाला रिटर्न टैक्स-फ्री होता है|

हाइब्रिड फंड के प्रकार:

इक्विटी के अलावा डेट और गोल्ड में निवेश करने से बाजार का जोखिम इस फंड में कम होता है|सुरक्षित और स्थिर रिटर्न देने वाले इस फंड को सेबी ने 6 प्रकारों विभाजित किया है|

एग्रेसिव हाइब्रिड फंड: म्यूचुअल फंड की इस कटेगिरी में 65 से 80 फीसदी निवेश इक्विटी में होता है| वहीं, 20 से 35 फीसदी निवेश डेट में किया जाता है|

बैलेंस्ड हाइब्रिड फंड और एग्रेसिव हाइब्रिड फंड: बैलेंस्ड हाइब्रिड फंड अपने कुल एसेट का करीब 40 से 60 फीसदी इक्विटी या डेट इंस्ट्रूमेंट्स में निवेश करते हें|ये स्कीम आर्बिट्राज में निवेश नहीं कर सकती हैं|

डायनेमिक एलोकेशन या बैलेंस्ड एडवांटेज फंड: म्यूचुअल फंड की ये स्कीम कुल निवेश का 100 फीसदी इक्विटी या डेट में निवेश कर सकती है|यह अपने निवेश का प्रबंधन डायनेमिक तरीके से करती है|

मल्टी एसेट एलोकेशन फंड: म्यूचुअल फंड की इस कटेगिरी में इक्विटी, डेट और गोल्ड तीनों तरह के एसेट क्लास में निवेश किया जा सकता है| इसमें 65 फीसदी निवेश इक्विटी में, 20 से 25 फीसदी निवेश डेट में और 10 से 15 फीसदी निवेश गोल्ड में किया जाता है|

आर्बिट्राज फंड्स: इन्हें अपने कुल एसेट का कम से कम 65 फीसदी इक्विटी या इक्विटी से जुड़े साधनों में निवेश करना होता है|

इक्विटी सेविंग्स फंड्स: म्यूचुअल फंड की ये स्कीम इक्विटी, डेट और आर्ब्रिट्राज में निवेश करती है| कुल एसेट का कम से कम 65 फीसदी शेयरों में निवेश करना होगा. इसी तरह कम से कम 10 फीसदी निवेश डेट में करना होता है|

5  बेस्ट रिटर्न देने वाले हाइब्रिड फंड

फंड                                                               रिटर्न

SBI इक्विटी हाइब्रिड फंड                              11.11%
DSP इक्विटी एंड बांड फंड                            10.89%

HDFC इक्विटी हाइब्रिड फंड                         10.39%
केनरा रोबेको इक्व्टिी हाइब्रिड फंड                10.23%
ICICI प्रूडेंशियल इक्विटी एंड डेट फंड           10.11%