Arthgyani
होम > न्यूज > कपास की उजास कायम- मूल्य में 5 प्रतिशत की वृद्धि

कपास की उजास कायम- मूल्य में 5 प्रतिशत की वृद्धि

कपास की कीमतों में आगे भी मजबूती बनी रह सकती है।

पिछले एक महीने में कपास की घरेलू कीमतें 38,500-39500 रुपये प्रति कैंडी हो गई हैं। कपास के दाम देश में पिछले एक महीने में करीब 5 फीसदी बढ़ गए हैं। कपास की कीमतों में आगे भी मजबूती बनी रह सकती है।

कारोबारियों ने बताया कि प्रमुख आयातक देशों मसलन चीन, बांग्लादेश और वियतनाम की तरफ से मांग बढ़ने के कारण कपास की कीमतों में तेजी आई है। इसी महीने अमेरिका के चीन के साथ व्यापार समझौता के पहले चरण पर हस्ताक्षर करने की संभावना है। इससे कपास का निर्यात बढ़ सकता है।

मूल्य वृद्धि आगे भी जारी

इंडियन कॉटन एसोसिएशन के अध्यक्ष महेश शारदा ने कहा कि पिछले एक महीने से चीन और बांग्लादेश की ओर से व्यापार संबंधी पूछताछ बढ़ रही है। जनवरी-फरवरी में डिलीवरी वाले सौदे हो रहे हैं। हमें मार्केट के सामान्य स्थिति के मुकाबले मांग मजबूत बने रहने की उम्मीद है। अधिक जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि कपास की एक कैंडी 350 किलो की होती है।उन्होंने कहा कि अगर वैश्विक बाजार में सही दाम पर आयात किया गया तो मार्च तक कपास के दाम में आसानी से 10 फीसदी का उछाल आ सकता है।

इंडस्ट्री का अनुमान है कि सितंबर में कपास का सीजन खत्म होने तक इस साल कपास का निर्यात 50-60 लाख गांठ तक पहुंच सकता है। पिछले साल देश से 47 लाख गांठ कपास का निर्यात हुआ था। कारोबारियों के मुताबिक देश से 15 लाख गांठ कपास का निर्यात हुआ है। कपास की गांठ 170 किलोग्राम की होती है, इनके अलावा 2-2 लाख गांठ के लिए सौदों पर हस्ताक्षर हो चुके हैं।

कोटक सिक्योरिटीज में कमोडिटी रिसर्च हेड और वीपी रवीन्द्र राव ने बताया कि आईसीई पर कपास के दाम 9 फीसदी बढ़कर 69 सेंट प्रति पाउंड हो गए। इसी तरह से एमसीएक्स पर कपास की कीमतें 3 फीसदी बढ़कर 19600 रुपये हो गई हैं। उन्होंने कहा यह रुख जारी रहते हुए 15 जनवरी तक कपास का भाव 19800-20,000 रुपये तक जा सकता है।