Arthgyani

बजट 2020 की खबरें – Union Budget 2020 Live Hindi

भारतीय यूनियन बजट 2020 के प्रमुख दस्तावेज़

हर साल बजट आता है, हर साल के बजट के साथ हर वर्ग उम्मीदें लगाता है| कुछ को बजट से खुशियां मिलती हैं, कुछ को निराशा होती है| मगर बजट क्या है? यह कैसे कार्य करता है? यह जानने के लिए हम लेकर आए हैं, बजट से संबंधित पूरी जानकारी |

बजट 2020 मुख्य बिंदु: Budget 2020 Highlight

  • 100 सूखाग्रस्त जिलों के विकास पर होगा
  • 20 लाख किसानों को मिलेगा सोलर पंप 
  • मॉडर्न एग्रीकल्चर लैंड अक्त को राज्य सरकारों से लागू करायेंगे 
  • Ppp मॉडल के तहत किसान रेल बनेगी
  • धान्य लक्ष्मी योजना के अंतर्गत महिलाओं को बीज बैंक बनाने के लिए नाबार्ड देगा ऋण
  • २०२५ तक दूध प्रसंस्क्र्ण को दोगुना करने का लक्ष्य 
  • किसान क्रेडिट कार्ड के लिए 15 लाख करोड़ 
  • टीबी हारेगा देश जीतेगा अभियान 
  • स्वास्थ्य के लिए 69 हजार करोड़ रूपये 
  • एजुकेशन सेक्टर के लिए FDI 
  • 5 लाख की आय होगी कर मुक्त 
  • आयकर का नया स्लैब प्रस्तुत किया 
  • Lic का होगा विनिवेश 
  • बैक में जमा राशि का बीमा 1 लाख से 5 लाख रूपये

बजट 2020 लाइव अपडेट 

वित्त विधेयक-2020 पुनर्स्थापना

Budget-2020 में शिक्षा,चिकित्सा, एवं msme पर विशेष जोर दिया गया|वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस देश की उम्मीदों का बजट बताया|बजट में रोजगार सृजनसे युवा २०२२ तक आय वृद्धि के जरिये किसानों को राहत देने का प्रयास भी किया गया है|प्रमुख घोषणाओं आयकर के नये स्लैब की घोषणा रही|

01.42 pm : हेल्थ सेस को चिकित्सा इंफ़्रा पर व्यय किया जायेगा |

01.40 pm : आयुष्यमान भारत के लिए हेल्थ सेस लिया जायेगा, चिकित्सा उपकरण भारत में बनाने को बढ़ावा मिलेगा |

01.39 pm : घरेलु कम्पनियों को कस्टम ड्यूटी से विशेष छूट लाभ दिए जायेंगे, मेक इन इंडिया से लाभ शुरू हो चुके हैं |

01.37 pm : इज़ ऑफ़ डूइंग बिजनेस में आज भारत का स्थान 68वे  स्थान पर पहुँच गया है जो 2014 में 146 वे पर था |

01.36 pm : GST से ख़रीद में व्यय का पता चलेगा जो QR कोड से होगा |

01.35 pm : आधार आधारित कर निरिक्षण योजना शुरू की जाएगी |

01.34 pm : कर जमा करने की प्रक्रिया सरल बनाया जायेगा इसकी लिए डिजिटल पद्धति द्वारा  भुगतान प्रक्रिया लाई जाएगी |

01.33 pm : अप्रत्यक्ष करों में  हम विश्व की न्यूनतम कॉर्पोरेट टैक्स दर पर है |

01.31 pm : CBDT में भी संशोधन दरें जल्द ही जारी की जाएँगी |

01.30 pm : कर एक विश्वास आधारित प्रक्रिया है |

01.29 pm : बैंकों के विलय से वित्तीय घाटा कम होगा |

01.28 pm : आयकर में संशोधन किये जायेंगे, 4 लाख 83 हज़ार  डायरेक्ट टैक्स दाता सबका विश्वास योजना से जुड़ेंगे |

01.27 pm : विवाद से विश्वास योजना – विवादित कर का भुगतान करने पर छूट का प्रावधान होगा , 31 मार्च के बाद कुछ अतिरक्त कर चुकाने होंगे |

01.26 pm : आयकर प्रावधान पूरी तरह डिजिटल होंगे , जिससे किसी मानवीय हस्तक्षेप की कोई गुंजाइश नहीं होगी |

01.25 pm : चैरिटी संसथान को निवेशित धन्पर आयकर से मुक्ति दी गयी लेकिन इसके लिए उन्हें पे रिटर्न भरना होगा, उन्हें दानदाता का रिकॉर्ड डिजिटल रूप से  पंजीकृत करना होगा |

01.24 pm : रियल एस्टेट को अतिरिक्त 5 प्रतिशत राशि की राहत दी गयी |

01.23 pm : सभी के लिए 1.5 लाख की किस्त को कर मुक्त करने के 1 साल का समय बढाया जायेगा 

01.22 pm : MSME में 1 करोड़ से 5 करोड़ आय पर ऑडिट से मुक्त किया गया 

01.21 pm : को ऑपरेटिव सोसाईटी को 30 प्रतिशत से घटाकर   22 प्रतिशत कर का प्रावधान किया गया.

01.20 pm : स्टार्ट अप में  25 करोड़ से 100 करोड़ आय वाले को कोई उपकार नहीं देना होगा, वे 7 से 10 साल कर मुक्त होंगे ये वित्त मंत्री द्वारा घोषणा की गयी.

1.17 pm : FPI निवेश को 100 प्रतिशत कर छूट, निर्धारित सेक्टर में 3 वर्षो के लॉक इन पिरीयड के साथ FPI इन्वेस्टर को 5 प्रतिशत कर देना होगा , म्युनिसिपल बांड, IFSC बोंद्बोंद में 4 – 5 प्रतिशत कर देना होगा |

01.16 pm : बिजली कम्पनियों को कॉर्पोरेट टैक्स 15 प्रतिशत होगा 

01.13 pm : DDT कंपनी देती है 15 प्रतिशत अतिरिक्त कर निवेशकों पर बोझ पड़ता है इसलिए अब DDT समाप्त किया जायेगा, अब सिर्फ़ निर्धारण भुगतान कर देना होगा|

1.12 pm : आयकर के सरलीकरण के लिए विशेष मुआईना किया जायेगा , बीते दशकों में 70 ऐसे कर समाप्त किये गए हैं जिससे आय कर सरल हुआ है |

01.09 pm : 7.5 से 10 लाख के बीच आय पर 15 प्रतिशत टैक्स,, 10 लाख से 15 लाख आय के लिए 20 प्रतिशत टैक्स, 15 लाख से ऊपर की आय पर 30 प्रतिशत टैक्स होंगे, 5 लाख से कम आय वालों को कोई टैक्स नही देना होगा|

01.08 pm : व्यक्तिगत कर श्रेणी -5 से 10 के बीच होगा, राहत के लिए ये टैक्स घटाए जा रहे हैं |

01.06 pm : कालीदास के शब्दों का उदाहरण लेते हुए निर्मला  सीतारमण ने कहा सूर्य भाप के रूप में जल लेता है वैसे ही सरकार टैक्स लेती है |

01.05 pm : भारत वैश्विक स्तर पर व्यापार के लिए तैयार है वित्तमंत्री ने कहा |

01.04 pm : कार्पोरेट टैक्स 22 प्रतिशत कार्यरत कम्पनियों के लिए होगा ये न्यूनतम दर से वैश्विक कम्पनियां आकर्षित होंगी|

01.03 pm : भारतीय अर्थ्व्यव्स्तः उच्च दरें प्राप्त करेंगी ऐसी आशा है |

01.02 pm : कैपिटल expenditure में 21 प्रतिशत की वृद्धि हुई है |

01.01 pm : अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए  सरकार ने कुछ कर वापस लिए हैं |

01.00 pm : GDP 2020 – 21 में 10 प्रतिशत का लक्ष्य है, 2.46 लाख करोड़ की आय का लक्ष्य |

12.59 pm : GST कंपनसेशन फंड दिया जायेगा |

12 .58 pm : IFSC को 3 ट्रेंड को स्वीकृति, जिसमे महँगी धातु, बुलियन एक्सचेंज शामिल होंगे |

12.55 pm : वित्तीय प्रवाह की आवश्यकता अर्थव्यवस्था को है जिसके लिए NRI को निवेश में छूट दी जाएगी, FPI को 9 प्रतिशत से 15 प्रतिशत  किया जायेगा, बांड में निवेश की सीमा बधाई जाएगी , वित्तीय तरलता को क्रेडिट गारंटी दी जाएगी|

12.54 pm : माध्यम कम्पनियों को घरेलु स्तर पर कामयाब करने के लिए उनके निर्यात की समस्या को सुलझाया जायेगा और इसके लिए 1000 करोड़ की व्यवस्था की जाएगी |

12.53 pm : 5 लाख NBFC  को RBI की नई नीतियों से लाभ मिलेगा |

12.52 pm : MSME अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने में सबसे बड़ी भूमिका निभाती है इसलिए इसे वित्तय पोषण दिया जायेगा|

12.51 pm : को ओपरेटिव बैंकों के विकास पर योजना तैयार की जाएगी, NBFC पर भी रहेगा ख़ास ध्यान |

12.50 pm : 1 लाख से 5 लाख जमा राशि पर इंश्योरेंस दी जाएगी |

12.49 pm : 10 बांको के विलय से 4 बैंक बनेंगे, हर जमादाता का बैंक में जमा धन सुरक्षित है उन्होंने इसका यकीं दिलाया|

12.48 pm : 5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनोमिक तैयार करने के लिए हम हर संभव प्रयास करेंगे |

12.47 pm : जम्मू कश्मीर एवं लद्दाख को 5958 लाख करोड़ विकास के लिए दी गयी |

12.45 pm : नार्थ ईस्ट को विशेष वरीयता क्रम में रखा जायेगा, कर में विशेष छूट का प्रावधान होगा |

12.44 pm : हर्षित होते हुए श्रीमती रमण ने कहा हमें गर्व है कि G – 2020 की मेजवानी भारत करेगा |

12.43 pm : आधुनिक दाता कलेक्शन से सटीक दाता संग्रह किया जयेगा |

12.42 pm : राष्ट्रीय नियुक्ति एजेंसी हर जनपद में हो, तकनीकि आधारित रोजगार, युवाओं को प्रोत्साहन, सीधी नियुक्ति की व्यव्स्था की जाएगी |

12.40 pm : हम करदाता पर अतिरिक्त बोझ नहीं डालेंगे, कंपनी एक्ट में अपराधिक कार्यवाही नही होगी ये संशोधन प्रस्तावित है |

12.38 pm : बेहतर प्रशाषण के लिए हम सुनिश्चित करते हैं कि हर नागरिक का विश्वास हो, मेहनती युवा को रोजगार मिले, स्वच्छ भ्रष्टाचार मुक्त माहौल हो |

12 .36 pm : किसानो का हित  में pm किसान योजना, दोगुनी आय, जैविक खेती हमारी योजनाओं में है जिससे किसानो क जीवन स्तर सुधरे और उनको प्रसन्नता मिले |

12.33 pm : आयुष्मान भारत के लिए  वित्तमंत्री ने थिरूवल्लूर के कथन को दोहराते हुए कहा “अच्छे देश का आभूषण, बीमारी रहित लोग, संपत्ति, फसल और सुरक्षा” हो. यही हमारी कोशिश है |

12.31 pm : थर्मल पॉवर प्लांट के प्रदूषण पर ख़ास ध्यान दिया जायेगा, शुद्ध हवा बड़ी शहरों की समस्या बन चुकी है इससे निजात  पाई जाएगी ये वित्त मंत्री का कथन है, इसके लिए 4400 करोड़ का लक्ष्य रखा गया है |

12.30 pm : पेरिस समझौते के अंतर्गत पर्यावरण के अनुसार इंफ़्रा का विकास किया जायेगा. 1 जनवरी से काम शुरू हो चुका है |

12.29 pm : 2021 में नए पर्यटन कार्यक्रम को जोड़ा जायेगा जिसमे 2500 करोड़ दिए जायेंगे |

12.28 pm : 4 नए ट्राइबल म्यूजियम रांची  रोहतक और अहमदाबाद में बनाये जायेंगे |

12.26 pm : हस्तिनापुर , उत्तरप्रदेश , शिवसागर आसाम, अदिन्च्लो तमिलनाडु, और कोल्कता में म्यूजियम बनाये जायेंगे |

12.24 pm : पर्यटन को बढ़ावा देने हेतू भारतीय इतिहास और निर्माण शैली पर संज्ञान लिया जायेगा  और इसके तहत नए म्यूजियम बनाये जायंगे जिससे पर्यटन को बल मिल सके |

12.23 pm : वृद्ध एवं दिव्यंगो के लिए 9 हज़ार 500 करोड़ दिए गए है 

12.22 pm : SC और ST महिलाओं को 85 हज़ार करोड़ अलग से उनके स्वास्थ्य और विकास के आवंटित किये जाते हैं

12.21 pm : 28,600 करोड़ महिलाओं को इन योजनओं का लाभ मिला है |

12.20 pm : राष्ट्रिय पोषण के लिए, महिला और शिशु योजना के स्वास्थ्य  के लिए सरकार की ख़ास योजनायें लाभकारी सावित हुई हैं |

12 .19 am : बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान के तहत देश में बेटियों की शिक्षा में सुधार स्पष्ट उजागर हुआ है आज देश की बेटियां बेटों से आगे है ये गौरव की बात है |

12.18 am : सामाजिक सुरक्षा के तहत  महिला, शिशु, को ख़ास योजनाओं से जोड़ा जायेगा |

12.17 pm : भारत विश्व में अगला कदम तीसरे नंबर पर चाहता है, अभी भारत 5 वे नंबर पर दर्ज़ है |

12.16 pm : क्वांटम तकनीक से साइबर सुरक्षा बढ़ी है, 1 लाख ग्राम पंचायत ऑप्टिकल फाइबर से जुड़े हैं, इसके लिए 8000 करोड़ की राशि रखी गयी है |

12 .15 pm : आंगनवाडी, ग्रामपंचायत, पोलिस स्टेशन, तक डिजिटल भारत का लाभ पहुँच रहा है |

12 .13 pm : नयी अर्थव्यवस्था के तहत ड्रोन , प्रिंटिंग, क्वांटम , आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस को बढ़ावा दिया जा रहा है |

12.11 pm : तेल और गैस की व्यवस्था के लिए 1.37 हज़ार वर्ग किलोमीटर का विस्तार किया जायेगा, 16,200 किलोमीटर का विस्तार नेशनल गैस ग्रिड के तहत होगा |

12.10 pm : प्रीपेड समार्ट मीटर को बढ़ावा दिया गया  जिससे उपभोक्ता को आसानी हुई है इससे हर किसी को बिजली की सुविधा प्राप्त हुई है , इस योजना के किये 22 हज़ार करोड़ दिए गए हा |

12.09 pm : 1000 नए एअरपोर्ट बनाये जायेंगे २०३० तक हमारी योजना है वित्त मंत्री ने कहा |

12.08 pm : 1.7 लाख करोड़ ट्रांसपोर्ट इंफ़्रा को दिए जायेंगे |

12.07 pm: मुंबई से अहमदाबाद ट्रेन निजी योजना के तहत चलाई जाएगी |

12 .05 pm: आसाम में  890 किलोमीटर सड़क निर्माण की योजना 2022 तक पूरी कर ली जाएगी |

12.04 pm: 2500 किलोमीटर सडकों को  हाई way से कनेक्ट किया गया  |

12 .01 pm : नई आवासीय योजना, स्वच्छ जल की  उपलब्धता , मेट्रो, हाई way निर्माण रेलवे ट्रैक सबको उपलब्ध हो सरकार की कोशिश है |

12.00 pm : युवा आवादी को इंफ़्रा के कार्य से भी रोजगार मिलेगा, इंफ़्रा प्रोजेक्ट में नए इंजिनियर एवं MBA के युवाओं को रोजगार प्राप्त हो सकेगा |

11.59 am : इंफ़्रा के लिए ११० लाख करोड़ 5 वर्षो में ख़र्च किये गए हैं, जिससे हर नागरिक का जीवन आसान बन सकें |

11.58 am : 3.24 लाख वेंडर पंजीकृत किये गए हैं |

11.57 am : नेशन टेक्सटाइल्स मिशन 4 वर्षो के लिए 1480  करोड़ राशि स्वीकृत करता है |

11.56 am : निर्विक योजना, उत्पादों की बीमा,निर्यातको के लिए  रिफंड प्रोसेस योजनाओं में शामिल किये जायेंगे |

11.55 am :भारत उत्पादन चाहता है, जिससे क्वालिटी हो, कोई त्रुटि न हो, जो सुगम हो और इसके लिए हम प्रयास रत हैं. गुणवत्ता हमारी प्राथमिकता है |

11.54 am : रोजगारों के निर्माण के लिए हर संभव प्रयास किये जायेंगे |

11.54 am : केंद्र और राज्य स्तर पर वरीयता के साथ साथ आर्थिक गलियारों का निर्माण, 5 नयी समार्ट सिटी का निर्माण किया जायेगा |

11.53 am : उद्यमिता भारत की शक्ति है ये सीतारमण ने कहा |

11.52 am : उद्योग, किसान को बढ़ावा दिया जायेगा |

11 51 am : भाषा के अनुसार पाठ्य क्रम 99 हज़ार 300 करोड़ इस योजना को दी जाएगी |

11.50 am : ये सभी अति आवश्यक कार्य PPP मोड़ पर किया जायेगा |

11.49 am : शिक्षक , नर्स, पैर मेडिकल स्टाफ की विदेशो में जरुरत को देखते हुए इन पर स्पेशल पाठ्य क्रम शुरू की जाएगी |

11.48 am : जनपद अस्पतालों में डॉक्टर की भर्ती बढाई जाएगी |

11.47 am : गुणवत्ता युक्त शिक्षा, उच्च शिक्षा, ऑनलाइन शिक्षा, मेडिकल शिक्षा पर ज़ोर दिया जायेगा |

11.46 am : इंटर्नशिप के लिए  1 वर्षीय व्यवस्था इंजिनियर के लिए की जाएगी |

11.45 am : विज्ञानं एवं तकनीक से जुड़े स्टूडेंट को डिग्री और डिप्लोमा के लिए नए विद्यालय खोले जायेंगे |

11 .40 am : जन औषधि केंद्र के मुफ्त और सस्ती दवा का लाभ लोगों को पहुंचा है |

11.39 am : जनारोग्य योजना, स्वच्छ भारत योजना, इन्द्रधनुष योजनाओं को अलग बजट दी जाएगी जिससे सेवाओं का लाभ सभी को मिल सके |

11.38 am : पानी. स्वक्षता, स्वास्थ्य सरकार की प्राथमिकी पर है |

11.37 am : खेती को 2.83 लाख करोड़ दिए जायेंगे, पंचायिती राज को 1.23 लाख करोड़ आवंटित |

11.36 am : खुरपका रोग, पशुओं के अन्य रोग के निदान के हमर स्पेशल लक्ष्य है – २०२५ तक पशु रोगों से भारत के पशुओं को मुक्त किया जायेगा |

11.35 am : Non बैंकिंग क्षेत्रों को नाबार्ड का प्रोत्साहन मिलेगा 15 लाख करोड़ किसान कृषि कार्ड बनते गए ये किसानो के जीवन को सुचारू करने का सरकार का कदम है

11.34 am : इनवर को 600 करोड़ का प्रोतसाहन दिया जायेगा |

11.33 am : सोलर पम्प सोलर एनर्जी कम वर्षा वाले क्षेत्रों को दी जाएगी |

11.32 am : कृषि उड़ान एविअशन शुरू होगी, जिससे 311 मिलियन टन अन्न उत्पादन का लक्ष्य है |

11.30 am : नाबार्ड वारे हाउस, ग्राम संग्रहण स्थल किसानो की संग्रहण की शक्ति बढ़ाएगी. दान लक्ष्मी द्वारा लोन मुद्रा और नावार्ड किसानो को सहयोग कर रहे हैं |

11.29 am : भूमि का सही इस्तेमाल के लिए 3 शब्द का उन्होंने सहारा लेते हुए कहा जो तमिलनाडु की एक महिला का कथन है |

11.28 am : केमिकल फ़र्टिलाइज़र का प्रयोग नियंत्रित हुआ है |

11.26 am : 15 लाख किसान को पम्प सेट, खेतों वाले किसानो को सोलर ग्रिड, यूरिया का संतुलन के लिए जैविक खाद उपलब्ध कराइ गयी है और आगे भी सहायता जारी है – अधिक जानिए 

11.25 am : जल सम्बन्धी समस्या से पीड़ित जपदों का चुनाव कर उन्हें समस्या से मुक्त करा  जा रहा है |

11.23 am : सरकार किसानो को आय बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है. 2022 तक 6.11 करोड़ किसानो को फसल बीमा योजना से जोड़ने का लक्ष्य है | प्रधानमंत्री किसान योजना, ग्राम सड़क योजना, तकनीकि, प्रोसेसिंग आदि सुविधाएँ उन्हें मुहैया करायी गयी गई और करायी जा रही है | सरकार का लक्ष्य है हट किसान सुखी और संपन्न हो |

11 .19 am : जीवन की गुणवत्ता सुधरने के लिए सामाजित सुरक्षा के लक्ष्यों का बजट है | उन्होंने कश्मीरी कहावत का सहारा लेते हुए कहा – सों वतन गुलजार शालीमार .. मतलब हमारा  देश खिलते हुए शालीमार बाग़ जैसा है, कीचड़ में खिलते हुए कमल जैसा, नौजवानों के गरम खून जैसा है | ये कहते हुए मन जाये की वित्त मंत्री ने लोगों के दिलों में ओज़ भरा है और एक रवानगी दी है |

11.18 am : ये बजट 2020 3 बिन्दुओं पर केन्द्रित है | रोजगार इंडिया, आर्थिक विकास, कैरिंग सोसाईटी |

11.17 am : पूरे विश्व मे आज भारत की सराहना हो रही है यह हमारी उप्प्लाब्धि है |

11.16 am : हम विश्व की 5वी बड़ी अर्थव्यवस्था बन सके हैं यह हमारी सरकार की उपलब्धि है ऐसा वित्तमंत्री ने कहा |उन्होंने कार्य काल को सार्थक बताते हुए कहा PM आवास योजना के अंतर्गत जनता को लाभ मिला |

11.15 am : अम्सबका साथ सबका विकास योजना का लाभ जनता को मिला है हर निर्धन को केंद्र सरकार से सीधा लाभ पहुंचा है |

11.14 am : बीते 2 साल में 60 नए कर दाता GST से जुड़े, 105 करोड़ e -way बिल GST से जुड़े |

11.12 am : जनता को एक लाख करोड़ का फायदा हुआ है | अतिरक्त करों के बोझ से जनता को छुटकारा मिला है |

11.10 am : इंस्पेक्टर  राज ख़त्म हुआ, आकर्षक कर प्रणाली के कारण हर कमोडिटी दाम में गिरावट दर्ज़ हो सकी है वित्त मंत्री ल्जनता ने कहा |

11.09 : GST द्वारा एक देश एक कर का व्यवस्था और सपना पूरा है |

11.08 am : GST अरुण जेटली ने पेश किया था और राज्यों के बीच एकीकरण को एक सेतु के रूप में अंजाम दिया | हम आज उन्हें श्रधांजलि देते है | वित्त मंत्री के ये उद्गार संसद में स्वर्गीय जेटली के लिए थे |

11.07 am : बैंकों की हालात में सुधार हुआ लोन में कमी आई है | साथ ही वित्त मंत्री जी ने स्वर्गीय अरुण जेटली को याद किया और उनके द्वारा किये कार्यो की सराहना की उनका योगदान याद किया |

11.06 am : अल्पसंख्यक, पिछड़े और वंचित वर्ग को ध्यान में रखा गया है और उनकी आशाओं को समाहित किया गया है|

11.05 am : ये अबतक आय बढ़ाने को समर्पित है इसमें रोजगार व्यवसाय एवं तकनीकि को बढ़ावा दिया गया है |

11.04 am : बजट भाषण शुरू देश ने उनके नेतृत्व को सराहा और जनादेश दिया इसका वित्त मत्री ने शुक्रिया किया |

11.02 am : स्तर की करवाई शुरू बजट में सर्वेक्षण के सुझाओं को शामिल किया गया |

11.01 am : स्पीकर श्री ओम बिड़ला ने निर्मला सीतारमण को बजट प्रस्तुतीकरण के लिए आम्नात्रित किया |

11.00 am : बजट 2020 के लिए लोक सभा सत्र शुरू हुई |

10.59 am : बस कुछ ही मिनटों में आप अर्थज्ञानी पे पाएंगे लाइव बजट  की लाइव ख़बरें | बने रहें यूनियन बजट 2020 के लिए हमारे साथ | वित्तमंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण बजट पेश करने वाली हैं |

आर्थिक सर्वेक्षण 2020

बजट 2020 की उम्मीदे

रेल बजट 2020 को प्रोत्साहन की संभावना

भारतीय यातायात में रेल का विशेष महत्व है| भारतीय रेलवे विश्व के सबसे रेल नेटवर्क सेवाओं में शुमार है|यातायात एवं माल ढुलाई दोनों ही सन्दर्भों में रेल देश की लाइफ लाइन है| बीते दिनों जारी आंकड़ों के अनुसार रेल का परिचालन लाभ काफी कम हो गया है|आगामी बजट 2020 से रेल को भी काफी उम्मीदें हैं|बजट-2020 में

बजट 2020 आयकर की उम्मीदे

आयकर वह कर है जो सरकार लोगों की आय पर आय में से लेती है। आयकर सरकारों के क्षेत्राधिकार के भीतर स्थित सभी संस्थाओं द्वारा उत्पन्न वित्तीय आय पर लागू होता है।   कार्पोरेट टैक्स में 10% की कटौती के बाद अब मध्यमवर्गीय तबका भी आयकर की दर में राहत की उम्मीद लगा रहा है।  नौकरीपेशा वर्ग को आशा है कि बजट-2020 में सरकार उन्हें भी कुछ राहत जरूर देगी|

शिक्षा बजट 2020 की उम्मीदे

शिक्षा के लिए सरकार के बजट में हिस्सेदारी साल दर साल घटते जा रही है, हालांकि 2019 के बजट में शिक्षा के लिए बजट हिस्सेदारी में वृद्धि की गई थी, मगर यह अभी भी इतनी कम है कि इसे प्रासंगिक नहीं कहा जा सकता है| अगर सरकार प्रस्तावित ‘नई शिक्षा नीति’ को इस साल से अमल में लाने का निर्णय लेती है तो उम्मीद है कि शिक्षा के लिए बजट2020 में अच्छा आवंटन प्राप्त होगा|

बजट 2020 GST पर प्रभाव

वित्त वर्ष 2019-20 समाप्त होने से काफ़ी पहले से सरकारी और व्यापारिक संस्थाओं का GST में बदलाव के लिए बैठकों का दौर शुरू हो गया था, विशेषतः सरकार के टैक्स से जुड़े विभागों की तो गहन बैठकें हुई| इन सारी चहल-पहल को देखते हुए यह साफ़ पता चलता है कि बजट2020 में GST को लेकर कोई न कोई बड़ा प्रस्ताव लाने की तैयारी है|

इंफ्रास्ट्रक्चर बजट 2020 की उम्मीदे

बजट 2020 इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए बहुत ही विशेष होने की संभावना है, क्योंकि सरकार ने साल 2019 के अंतिम दिन 102 लाख करोड़ के महत्वकांक्षी ‘नेशनल इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स’ की घोषणा की है| यह 102 लाख आगामी पांच वर्षों में देश के विभिन्न इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स पर खर्च किए जाएंगे, जिसके लिए 21 क्षेत्रों का चयन किया गया है|

कृषि बजट 2020 की उम्मीदे

भारत एक कृषि प्रधान देश हैं। अति प्राचीन काल से ही कृषिकार्य किया जाता हैं। जब संसार के अधिकांश मानव असभ्य थे, उस समय भारतवासी कृषि में निपुण थे। इस बात का इतिहास साक्षी हैं। आर्य युग में जुता सिंचा, कटा, निदा, आदि कार्य
किया जाता था। कृषि के साथ पशुपालन व्यवसाय संलग्न हैं।  वर्तमान में देश की लगभग 64 प्रतिशत जनसंख्या अपनी जीविका के लिये प्रत्यक्ष रूप से कृषि कार्य पर निर्भर हैं। विश्व में चीन के बाद भारत ही वह दूसरा देश हैं, जहाँ इतनी बड़ी संख्या में लोग कृषिकार्य में संलग्न हैं।

कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था का मूल आधार हैं तथा देश की आय 50 प्रतिशत कृषि से ही होती हैं। देश के घरेलू उत्पाद में कृषि क्षेत्र का लगभग 26 प्रतिशत योगदान हैं। देश के कुल निर्यातों में कृषि का योगदान 1999-2000 में 43 प्रतिशत था।  इसीलिये कृषि को देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ कहा जाता हैं। भारत के 22 करोड़ पशुओं का भोजन भी कृषि जन्य पदार्थो से प्राप्त होता हैं। गैर कृषि क्षेत्र के लिये बड़ी मात्रा में उपभोक्ता वस्तुयें और अधिकांश बड़े उद्योग जैसे सूती वस्त्र, जूट उद्योग, चीनी उद्य़ोग , कागज उद्योग, वनस्पति उद्योग, घी उद्योग आदि को कच्चा माल कृषि से ही प्राप्त होता हैं। देश की एक अरब से भी अधिक जनसंख्या का भरण पोषण कृषि के विकास से ही संभव हैं।

आयात/ निर्यात बजट 2020

आयात और निर्यात किसी भी अर्थव्यवस्था का महत्वपूर्ण हिस्सा होते हैं|विशेष रूप से भारतीय अर्थव्यवस्था में आयात का विशेष महत्त्व है|महंगी धातुओं से लगायत पेट्रोलियम तक अर्थव्यवस्था की एक बड़ी धनराशि आयात पर खर्च होती| बजट-2020 में आयात-निर्यात पर  व्यापारी वर्ग की विशेष दिलचस्पी है |विदित हो बीते साल सोने पर आयात शुल्क बढने के कारण देश में सोने की खरीद में भारी कमी आयी थी|स्वर्ण कारोबारी सोने पर लगने वाले शुल्क संबंधित छूट चाहते हैं|आइये जानते बजट 2020 में आयात निर्यात से संबंधित उम्मीदें|

FMCG बजट 2020

FMCG अर्थात फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स। आसान शब्दों में कहें तो ये तेज़ी से बिकने वाली उपभोक्ता वस्तुएँ हैं।तेजी से बिकने वाले उपभोक्ता सामान ऐसे उत्पाद होते हैं जिनका अपेक्षाकृत कम लागत पर उत्पादन होता है और यह उत्पाद तुरंत बिक जाते हैं| इनमे दूध, फल और सब्जियां, जूस, टॉयलेट पेपर, सोडा, वाशिंग पॉवडर, साबुन, टूथपेस्ट, सौंदर्य प्रसाधन और एस्पिरिन जैसी दवाएं भी शामिल हैं।FMCG कंपनियों ने मांग में तेजी लाने के लिए सरकार से बजट-2020 में प्रोत्साहन पैकेज की मांग की है|

परिवहन बजट 2020 का प्रभाव इंडस्ट्री पर 

परिवहन विभाग भारत सरकार  का एक मंत्रालय है। यह, नियमों, विनियमों और सड़क परिवहन से संबंधित कानूनों, राष्ट्रीय राजमार्गों और परिवहन अनुसंधान के निर्माण और प्रशासन के लिए शीर्ष निकाय है। सड़क परिवहन देश के आर्थिक विकास के लिए एक महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा है। यह गति, संरचना और विकास के प्रतिरूप को प्रभावित करती है। भारत में कुल माल का 60 प्रतिशत और यात्री यातायात के 85 प्रतिशत, सड़कों पर ले जाया जाता है। इसलिए, इस क्षेत्र का विकास भारत के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है और बजट में एक महत्वपूर्ण भाग बनाता है। 

स्टार्टअप बजट 2020 से उम्मीदें

“स्टार्टअप इंडिया स्टैंडअप इंडिया है” की घोषणा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 2015 में की गयी थी। “स्टार्टअप इंडिया” मोदी सरकार द्वारा देश के युवाओं की मदद करने के लिये एक प्रभावी योजना है।

भारत के 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था बनने में स्टार्टअप  मदद कर सकता है। इकोसिस्टम इसे हासिल करने में इनोवेशन, रोजगार के नए अवसरों और आर्थिक विकास को प्रोत्साहन देकर महत्वपूर्ण मदद कर सकता है।  हालांकि, इसे वास्तविकता बनाने के लिए हमारी अपेक्षा है कि सरकार इस बजट में सक्रिय भागीदारी दिखाएगी।

डायरेक्ट टैक्स बजट 2020

डायरेक्ट टैक्स में आयकर के अलावा सिक्योरिटीज ट्रांसक्शन टैक्स,  कैपिटल गेन टैक्स और कंपनियों के लिए कॉरपोरेट टैक्स आदि टैक्स भी शामिल होते हैं। बजट में आयकर दाताओं को कर में छूट मिलने की ज्यादा उम्मीद है। करदाता पांच से 10 लाख रुपये के लिए स्लैब को 20 प्रतिशत से घटाकर के 10 प्रतिशत करने की मांग कर रहे हैं।  साथ ही लोगों की मांग है कि इक्विटी पर एलटीसीजी टैक्स को खत्म किया जाए।

सरकार जल्द ही तीन बड़े टैक्स सिक्योरिटी ट्रांजैक्शन टैक्स (STT), लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स (LTCG) और डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स (DDT) को खत्म करने की तैयारी में है।

बजट 2020 से सरकार की योजनायें

भारत सरकार की सामाजिक उत्थान के लिए अनेक कल्‍याणकारी योजनायें हैं जो केन्‍द्रीय, राज्य और  जिला स्तर पर है। कई विशिष्‍ट योजनायें  केन्‍द्र एवं राज्‍यों के बीच एक संयुक्‍त गठबंधन भी है। सरकार की अनेक योजनाओं में कुछ योजनाये ऐसी भी हैं जिनसे आम जीवन में सापेक्ष प्रभाव पड़ा।

उज्‍ज्‍वला योजना, प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना, जन धन योजना, अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना, स्टार्टअप इंडिया, श्रम योगी मानधन पेंशन योजना, प्रवासी कौशल विकास योजना, जननी सुरक्षा योजना/ प्रधान मंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान, समर्थ योजना आदि को  बजट 2020 से अनेक उम्मीदें है।

बजट किसे कहते हैं?

किसी भी अर्थव्यवस्था को धन की पूर्ति के लिए बजट का निर्माण किया जाता है| बजट द्वारा प्रत्येक मद के लिए धन का निर्धारण किया जाता है, जिससे वित्तीय व्यवस्था सुचारु रूप से चलती रहे| बजट द्वारा योजनाओं को गति प्रदान की जाती है, और इन योजनाओं का लाभ आम जनता को प्रदान किया जाता है| बजट में निर्धारित की गयी राशि से अधिक धन व्यय नहीं किया जा सकता है| सरकार की आय एवं व्यय का एक विवरण जिस प्रपत्र में एकत्रित किया जाता है, उसे बजट कहते है| बजट में  विगत वर्ष के आय और व्यय के अनुमानों का वार्षिक वित्तीय विवरण प्रस्तुत किया जाता है| भारतीय संविधान के अनुच्छेद 112 में बजट निर्माण के विषय में बताया गया है | लोकसभा में केंद्र सरकार के वित्तमंत्री के द्वारा बजट पेश किया जाता है, इस बजट को केंद्रीय बजट के नाम से जाना जाता है| राज्य सरकार में बजट राज्य वित्त मंत्री के द्वारा पेश किया जाता है, यह केवल उसी राज्य के लिए निर्धारित किया जाता है| भारतीय संविधान के अनुच्छेद 112 में बजट की बात कही गयी है| बजट को संसदीय भाषा में ‘वार्षिक वित्तीय विवरण’ कहा जाता है| यह बजट हर साल संसद का समक्ष वित्त मंत्री द्वारा पेश किया जाता है|

सरकार द्वारा हर साल बजट पेश करने का सीधा मतलब यह है कि सरकार लोगों को यह बताना चाहती है कि सरकार वर्तमान वित्त वर्ष में किन-किन योजनाओं पर पैसा खर्च करेगी और उसको इस वर्ष किन स्रोतों से आय की उम्मीद है| यही आंकड़े अगले वर्ष और बीते हुए वित्त वर्ष जारी जाते हैं| अर्थात बजट सरकार की आय और व्यय का लेखा जोखा होता है अर्थात बजट में यह बताया जाता है कि सरकार के पास रुपया कहां से आया और कहां गया|

सरकार द्वारा हर साल बजट क्यों बनाया जाता है?

सरकार हर साल बजट बनाकर दो काम करती है-

  1.  अगले वित्तवर्ष में देश के विभिन्‍न क्षेत्रों (जैसे- उद्योग, विनिर्माण, शिक्षा, विज्ञान एवं तकनीकी, स्वास्थ्य, रक्षा, परिवहन आदि) में किए जाने वाले विभिन्‍न प्रकार के विकास कार्यों में होने वाले खर्चों का अनुमान लगाती है|
  2.  अगले वित्तवर्ष के लिए अनुमानित खर्चों को पूरा करने के लिए धन (Funds) की व्‍यवस्‍था करने के लिए सम्‍यक उपाय (जैसे- कुछ चीजों पर कुछ खास तरह के नए टैक्स लगाने या बढ़ाने अथवा किसी वस्तु या सेवा पर पहले से दी जा रही सब्सिडी को कम या खत्‍म करना आदि) करती है|

बजट बनाने का आरम्भ कब होता है?

भारत में बजट निर्माण प्रक्रिया अगस्त-सितंबर के महीने में शुरू कर दी जाती है| इसके लिए बजट सर्कुलर जारी किया जाता है| वित्त विभाग के अधीन बजट डिवीजन अगस्त के अंत में या सितंबर के प्रारम्भ में बजट सर्कुलर जारी करता है| इस सर्कुलर के माध्यम से भारत सरकार और उसके सभी मंत्रालयों से संबंधित आय- व्यय का पूरा विवरण मांगा जाता है| इस विवरण के आधार पर बजट की रूप- रेखा तैयार की जाती है| सितंबर महीने के अंत में अगले वित्त वर्ष के लिए सरकारी खर्च का अनुमानित आंकड़ा तैयार किया जाता है|

बजट कब पेश किया जाता है?

बजट 1 फरवरी को सुबह 11 बजे से पेश किया जाता है| 2016 से पूर्व तक यह फरवरी के अंतिम तारीख़ को पेश किया जाता था|

बजट का महत्व और प्रक्रिया क्या है?

बजट द्वारा सरकार के सभी कार्य निर्धारित किये जाते है| सरकार द्वारा संचालित सभी योजनाओं के लिए धन की व्यवस्था बजट के माध्यम से ही किया जाता है| सरकार बिना बजट के एक रूपये का व्यय नहीं कर सकती है|

बजट में प्रत्येक वर्ष नयी योजनाओं की घोषणा होती है और टैक्स में संसोधन किया जाता है, जिसका सीधा प्रभाव जनता पर पड़ता है, बजट में किये गए सभी प्रावधान तब तक लागू नहीं किये जा सकते है, जबतक संसद के द्वारा पास नहीं किया जाता है|

बजट को वित्त विधेयक द्वारा पेश किया जाता है| वित्त विधेयक केवल लोकसभा में ही पेश किया जा सकता है| बजट लोकसभा में पास होने के बाद राज्य सभा के पास स्वीकृति के लिए भेजा जाता है, यदि राज्य सभा इस पर 14 दिन के अंदर स्वीकृति प्रदान नहीं करती है, तो बजट को पास मान लिया जाता है, और वित्तीय वर्ष की पहली तिथि को बजट में किये गए प्रावधान पूरे देश में लागू कर दिया जाता है|

राज्य सरकार द्वारा निर्मित बजट केवल राज्य की सीमाओं तक के लिए मान्य रहता है | बजट में यदि राज्य सरकार और केंद्र सरकार के बजट में विरोधाभास होता है, तो केंद्र सरकार के बजट को मान्यता प्रदान की जाती है|

भारतीय बजट 2020 के प्रमुख दस्तावेज़

भारतीय बजट 2020 के प्रमुख दस्तावेज़ इस प्रकार है:

  1.  वित्तमंत्री का भाषण
  2.  वार्षिक वित्तीय कथन
  3.  बजट का सार
  4.  वित्त विधेयक
  5.  बजट प्राप्तियां
  6.  बजट व्यय
  7.  अनुदान की मांग

सरल शब्‍दों में कहें तो सरकार ये निश्चित करती है कि उसे अगले वर्ष देश के विकास से संबंधित किन चीजों पर प्राथमिकता के साथ खर्च करना है और उन खर्चों के लिए धन की व्‍यवस्‍था कैसे करनी है| आय (Income) व व्‍यय (Expenditure) के इसी ब्‍यौरे का नाम बजट (Budget) है और प्रत्‍येक बजट एक निश्चित अवधि के लिए बनाया जाता है| सरकार हर साल बजट इसलिए बनाती है ताकि वह जनता को यह बता सके कि उसके द्वारा दिया गया कीमती पैसा किन-किन चीजों पर खर्च किया गया है और जिन चीजों पर खर्च किया गया है उससे क्या परिणाम हासिल हुए हैं |

सरकार आयकर चुकाने वालों के बीच यह सन्देश देना चाहती है कि जनता द्वारा दी गयी हर एक पाई का हिसाब सरकार के पास है और इसमें किसी भी तरह की गड़बड़ी नही की जा रही है| इसलिए सभी योग्य आयकर दाताओं को पूरी ईमानदारी से कर का भुगतान समय पर करते रहना चाहिए|

हर साल बजट प्रस्तुत करके सरकार को यह पता चल जाता है कि देश में किस क्षेत्र में ज्यादा खर्च करने की जरुरत है और किसमें कम| इस प्रकार से सरकार देश के हर राज्य (जिन राज्यों का विकास कम होता है उनमे ज्यादा उद्योग और शिक्षा/अस्पताल जैसे संस्थानों को खोला जाता है) और अर्थव्यवस्था के लिए जरूरी हर क्षेत्र का विकास सुनिश्चित करने का प्रयास करती है|