Arthgyani
होम > बाजार > 2019 में चमका सोना

2019 में चमका सोना

निवेशकों को 23 प्रतिशत से अधिक रिटर्न

भारतीय निवेशकों के लिए सोना एक परंपरागत निवेश विकल्प है| साल 2019 अब अपने अंतिम दिनों की ओर बढ़ चला है| ये वक्त है निवेशक अपने निवेश की वार्षिक समीक्षा करते हैं|वर्ष के विशेष दिनों समेत वैवाहिक अवसरों पर इस वर्ष भी निवेशकों ने बड़ी मात्र में सोने की खरीदारी कि|हालांकि अंतरराष्ट्रीय बाजार की कीमतों के साथ ही बढ़े टैक्स के भार ने सोने की खरीद को काफी हद तक प्रभावित किया|आइये जानते हैं सोने में निवेश करने वालों के लिए कैसा रहा ये साल?

लाभकारी निवेश बना सोना:

2019 में सोना निवेशकों के लिए फायदे का सौदा साबित हुआ|आर्थिक सुस्ती और वैश्विक मंदी के बावजूद भी इस वर्ष सोना चमकता रहा| इस चमक के  कारण सोने में निवेश करने वाले निवेशकों के लिए 2019 अच्छा साल रहा है।सोने ने इस साल निवेशकों को 23 प्रतिशत से अधिक प्रतिफल दिया है।बाजार विशेषज्ञों के अनुसार दुनियाभर में जारी आर्थिक सुस्ती के बीच नये साल 2020 में सोना 42,000 से 45,000 रुपये प्रति 10 ग्राम की नई ऊंचाई को छू सकता है।जिसका मतलब है सोना अगले वर्ष भी निवेशकों को मालामाल करता रहेगा|

शेयर बाजार और सोना:

उतार चढाव के बीच शेयर बाजार निवेशक भी इस साल अच्छी कमाई करने में सफल रहे हैं। बाजार विशेषज्ञों का मानना है कि यदि सरकार ने आगामी बजट में भी सुधारों को आगे बढ़ाया तो निश्चित रूप से अगले साल भी शेयर बाजार के निवेशक अच्छी कमाई कर सकते हैं। शेयरों में निवेश करने वाले  निवेशकों ने  इस साल 15 प्रतिशत की अच्छी कमाई की है।शेयरों में निवेश पर हमेशा अधिक रिटर्न मिलने की गुंजाइश रहती है, लेकिन इसमें जोखिम भी अधिक होता है। वहीं सोने में निवेश एक सुरक्षित विकल्प है, लेकिन इसमें औसत प्रतिफल शेयरों की तुलना में कम रहता है। लेकिन इस बार सोने ने निवेशकों को शेयरों से अधिक मुनाफा दिया है।

वैश्विक मंदी का असर:

बाजार के जानकार इसे वैश्विक मंदी से जोडकर देखते हैं|दिल्ली बुलियन ट्रेडर्स वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष विमल गोयल ने भाषा से कहा, ”इस समय देश-दुनिया में अर्थव्यवस्था की हालत अच्छी नहीं हैं। दुनिया में जब भी ऐसी स्थिति बनती है, तो निवेशक निवेश के अन्य विकल्पों के बजाय सोने में निवेश को तरजीह देते हैं।” आंकड़ों के विश्लेषण के अनुसार पिछले साल के मुकाबले 2019 में सोने में निवेशकों को 23 प्रतिशत से अधिक का प्रतिफल मिला है। एक साल पहले 31 दिसंबर, 2018 को 24 कैरट या 99.9 प्रतिशत शुद्धता वाले सोने का दाम 32,270 रुपये प्रति दस ग्राम था। इस साल के अंतिम सप्ताहांत सोने का भाव 39,700 रुपये प्रति दस ग्राम के आसपास रहा है। इस लिहाज से सोने का भाव अभी तक 7,430 रुपये यानी 23 प्रतिशत से कुछ अधिक बढ़ चुका है।

चांदी ने भी दिया मुनाफा:

साल 2019 में चांदी भी फायदे का सौदा साबित हुई|चांदी ने निवेशकों को करीब 22 प्रतिशत तक रिटर्न दिया है। पिछले साल 31 दिसंबर को चांदी का भाव 39,100 रुपये प्रति किलोग्राम रहा था, जो इस साल के अंतिम सप्ताहांत 47,700 रुपये प्रति किलोग्राम रही। गोयल कहते हैं कि बेशक यह धारणा है कि सोने की तुलना में शेयरों में निवेश पर अधिक कमाई होती है, लेकिन अब शेयर बाजार ‘काफी ऊंचाई पर हैं। ऐसे में निश्चित रूप से आगे भी सोने में निवेश करना निवेशकों के लिए अच्छा सौदा रहेगा। गोयल का कहना है कि हमारा मानना है कि 2020 में सोना 42,000 से 45,000 रुपये प्रति दस ग्राम के दायरे में रहेगा। सोना 2020 में भी निवेश का अच्छा विकल्प रहने का अनुमान है|