Arthgyani
होम > बाजार > 2019 में मेहरबान रहे विदेशी निवेशक(Fpi)  

2019 में मेहरबान रहे विदेशी निवेशक(Fpi)  

एफपीआई ने 2019 में 1,33,074 करोड़ रुपए का शुद्ध निवेश किया

आर्थिक सुस्ती और जीडीपी में गिरावट की ख़बरों के बीच ये खबर मोदी सरकार को राहत अवश्य देगी|नीतिगत मोर्चे पर तमाम दिक्कतों के बावजूद विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने 2019 में भारतीय शेयर बाजार में भरोसा बरकरार रखा है|बाजार के तमाम उतार चढाव के बीच विदेशी निवेशक भारतीय शेयर बाजार में निवेश की राह पर लौट रहे हैं। ये संकेत साल 2020 में शेयर बाजार के सुनहरे भविष्य की ओर संकेत कर रहे हैं|

नरमी से मिला लाभ:

काबिलेगौर है कि नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरीज के आंकड़ों के मुताबिक विदेशी निवेशकों का भरोसा इस वर्ष भारतीय बाजारों में कायम नजर आया |मौद्रिक नीति में  नरमी तथा विदेशी निवेशकों को प्रोत्साहन देने वाले कई निर्णयों के कारण  एफपीआई ने 2019 में भारतीय पूंजी बाजारों में 1.3 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया। इसमें से 97,250 करोड़ रुपए का निवेश शेयरों में किया गया। ये आंकड़े इसलिए ज्यादा महत्त्व रखते हैं क्योंकि 2018 में एफपीआई ने घरेलू पूंजी बाजार से 80,919 करोड़ रुपए की शुद्ध निकासी की थी। एफपीआई ने इक्विटी में 2019 में 97,251 करोड़ रुपए का निवेश किया, जबकि 2018 में उन्होंने 33,014 करोड़ रुपए की निकासी की थी।इसी तरह, एफपीआई ने 2018 में 47,795 करोड़ रुपए के ऋणपत्रों की शुद्ध बिकवाली की थी,जबकि 2019 में उन्होंने 26,828 करोड़ रुपए के ऋणपत्रों की शुद्ध खरीदारी की। एफपीआई ने हाइब्रिड प्रतिभूतियों में 2018 में 109 करोड़ रुपए की बिकवाली की थी, लेकिन 2019 में उन्होंने इस तरह की प्रतिभूतियों में 8,999 करोड़ रुपए की शुद्ध खरीदारी की है।

बिकवाली के महीनों में आयी कमी:

नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरीज लिमिटेड के आंकड़ों के अनुसार, एफपीआई ने 2019 में घरेलू पूंजी बाजार में अब तक 1,33,074 करोड़ रुपए का शुद्ध निवेश किया है।विदित हो कि बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने 2017 में हाइब्रिड प्रतिभूति नाम से नई श्रेणी की शुरुआत की थी। इस श्रेणी में रियल एस्टेट निवेश न्यास (रीट) और बुनियादी संरचना निवेश न्यास (इनविट) में एफपीआई के निवेश को वर्गीकृत किया जाता है। इस तरह घरेलू पूंजी बाजार में एफपीआई ने 2019 में अबतक 1,33,074 करोड़ रुपए की शुद्ध खरीदारी की है। वर्ष 2018 में एफपीआई छह महीने बिकवाल तथा छह महीने लिवाल रहे। वर्ष 2019 में एफपीआई ने महज चार महीने बिकवाली की। उन्होंने घरेलू पूंजी बाजार से जनवरी में 5,556 करोड़ रुपए, जुलाई में 3,003 करोड़ रुपए और अगस्त में 5,871 करोड़ रुपए निकाले। दिसंबर में 21 तारीख तक के आंकड़ों के अनुसार, एफपीआई 159 करोड़ रुपए के शुद्ध बिकवाल रहे हैं। उपरोक्त आंकड़े बताते हैं कि भारतीय शेयर बाजार में विदेशी निवेशकों का भरोसा बढ़ा है|