Arthgyani
होम > न्यूज > 2020 मे सोच समझ कर करें निवेश करें अच्छी कमाई

2020 मे सोच समझ कर करें निवेश करें अच्छी कमाई

2020 अच्छा निवेश अच्छी बचत

साल 2019 शेयर बाज़ार काफी निराशाजनक रहा|शेयर बाज़ार ने व्यापारियों की नींद उड़ा रखी थी ,शेयर बाज़ार मे काफी उतार चढाव देखने को मिला जिस के चलते देश की अर्थव्यवस्ता पर बहुत असर पड़ा। 2020 मे निवेशको को निवेश करने से पहले बहुत सी बातों को ध्यान मे रख के निवेश करना चाहिए ताकि निवेशको को अच्छा लाभ मिल सके।

निवेशको को जरूरत से ज्यादा फंड मे निवेश नहीं करना चाहिए। बहुत बार निवेशको को लगता है कि एक साथ बहुत सारे म्यूच्यूअल फंड मे निवेश करके अपने म्‍यूचुअल फंड पोर्टफोलियो को डायवर्सिफाई किया जा सकता है। हालांकि ये सच नहीं है। म्‍यूचुअल फंड खुद में कोई निवेश नहीं हैं। यह शेयर, बॉन्‍ड, गोल्‍ड इत्‍यादि में निवेश का एक जरिया हैं। एक से ज्यादा म्यूच्यूअल फंड मे निवेश करना मतलब शेयरों के उसी सेट को दोहराना है। पोर्टफोलियो में पांच से छह फंडों से ज्‍यादा स्‍कीमों को जोड़ने पर आप अमूमन एक तरह के शेयरों में निवेश कर रहे होते है।

निवेश करते वक़्त इन बातों का रखें ध्यान

  • मार्केट की टाइमिंग के चक्‍‍‍कर में नहीं पड़ें।
  • जल्दबाजी मे  फैसला लेने से बचे।
  • जरूरत से ज्‍यादा फंडों में नहीं करना चाहिए निवेश ।
  • केवल पिछले प्रदर्शन को देखकर निवेश नहीं करें।
  • फ‍िक्‍स्‍ड इनकम इंस्‍ट्रूमेंट में  निवेश ज्यादा न करें।
  • इंश्‍योरेंस को निवेश समझने की भूल नहीं करें।
  • इमर्जेंसी फंड की अनदेखी न करें।
  • अंतिम समय के लिए टैक्‍स-सेविंग इनवेस्‍टमेंट को नहीं छोड़ें।

अच्छी कमाई के लिए करें अच्छा निवेश

निवेशको को इक्विटी को लंबी अवधि के निवेश के तौर पे देखना चाहिए।  म्यूच्यूअल फंड मे निवेश करने के लिए निवेशको को सिप का रास्ता अपनाना चाहिए।  हमेशा वित्‍तीय लक्ष्‍यों को ध्‍यान में रखकर निवेश करें।  इस बात को हमेशा ध्‍यान रखें कि अस्थिरता इक्विटी का हिस्‍सा है।  इसमें सबसे जरूरी बात धैर्य को बनाए रखना है।

म्‍यूचुअल फंड निवेशकों के लिए फंड का पिछला ट्रैक रिकॉर्ड काफी अहमियत रखता है। इसमें फंड मैनेजर के उद्देश्‍य, एसेट मैनेजमेंट कंपनी का ट्रैक रिकॉर्ड और टैक्‍स देनदारी जैसी बातों का भी ध्‍यान रखना चाहिए। म्‍यूचुअल फंड के पिछले प्रदर्शन को अकेले में नहीं देखना चाहिए।

ध्यान रखें बीमा निवेश नहीं है

यदि आप ने बीमा करवा रखा है और आप उसकी क़िस्त भर रहे हैं इसका मतलब ये नहीं है आप निवेश कर रहे हैं। बीमा आप की बचत नहीं है।  बीमा और फंड  दोनों अलग अलग चीज़ है। इन दोनों चीज़ों को आपस मे बदला नही जा सकता है। निवेश बचत करने और लक्ष्य को बढ़ाने के लिए किया जाता है जबकि बीमा की अनहोनी मे सुरक्षा देने का काम करता है।  निवेश और इंश्‍योरेंस के मकसद अलग-अलग होते हैं।