Arthgyani
होम > न्यूज > ऊबर ईट्स ने भारतीय कारोबार को 35 करोड़ डॉलर में जोमैटो को बेचा

ऊबर ईट्स ने भारतीय कारोबार को 35 करोड़ डॉलर में जोमैटो को बेचा

जोमैटो ने खरीदा ऊबर ईट्स को

ऑनलाइन फूड डिलिवरी की सेवा देने वाली कंपनी जोमैटो ने ऊबर ईट्स का भारतीय कारोबार खरीद लिया है। जोमैटो ने यह सौदा 2485 करोड़ अर्थात करीब 35 करोड़ डॉलर में किया है। इससे पहले काफी समय से जोमैटो द्वारा ऊबर ईट्स का अधिगृहण करने की खबरें सामने आ रही थीं। कैब सर्विस प्रोवाइडर ऊबर के इस ऑनलाइन फूड सर्विस कारोबार को भारत में कोई अच्छी सफलता नहीं मिल रही थी। इसी कारण ऊबर ने अपने इस कारोबार को जोमैटो को बेचने का फैसला लिया है। बताया जा रहा है कि अब ऊबर के पास मात्र 9.9 फीसद शेयर रहेंगे।

ऊबर ईट्स बाकी देशो में अपना कारोबार पहले की तरह ही जारी रखेगी। जोमैटो द्वारा किया गया यह अधिग्रहण सिर्फ भारत में ऊबर ईट्स के लिए है। ऐसा माना जाता है कि ऊबर अगर किसी बाजार मेंअच्नछा प्हींरदर्शन नहीं कर पाती है, तो वह कारोबार छोड़ देती है। भारत में भी ऊबर ऑनलाइन फूड डिलिवरी सेक्टर में अपना वर्चस्व नहीं स्थापित कर सकी थी। जिस कारण कंपनी ने भारत में अपने फूड डिलिवरी कारोबार को बेचने का फैसला लिया। ऊबर कंपनी की पॉलिसी है कि अगर वह बाजार में पहले या दूसरे नंबर पर नहीं है, तो वह बाजार छोड़ देती है।

भारत मे ऊबर ईट्स को हुआ घाटा

ऊबर ने भारत में 2017 में फूड डिलीवरी बिजनेस शुरू किया था। ऊबर ईट्स ने पिछले पांच महीने में 2,197 करोड़ रुपये का घाटा होने की जानकारी दी थी। इसके प्लेटफॉर्म पर 41 शहरों के 26,000 होटल लिस्टेड हैं। वहीं जोमैटो पर 24 देशों के 15 लाख होटल के बारे में जानकारी उपलब्ध है। कंपनी हर महीने करीब सात करोड़ ग्राहकों को सुविधा देती है। कुछ दिन पहले जोमैटो ने अपने मौजूदा निवेशक आंट फाइनेंशल से 15 करोड़ डॉलर यानी 1065 करोड़ रुपये का नया निवेश जुटाया था। कंपनी की वैल्यूएशन 300 करोड़ डॉलर यानी 21,300 करोड़ रुपये है।

कंपनी ने यह स्पष्ट किया है कि भारत में ऊबर कैब्स पहले की तरह ही अपना कारोबार करती रहेगी। जोमैटो द्वारा केवल ऊबर ईट्स के भारतीय कारोबार का ही अधिग्रहण किया गया है।जोमैटो द्वारा ऊबर ईट्स का अधिग्रहण कर लेने से अब ऊबर ईट्स के यूजर्स भी जामैटो पर रीडायरेक्ट हो जाएंगे। सूत्रों के अनुसार, ऊबर ईट्स के अधिग्रहण से इसके कर्मचारियों को छंटनी का सामना करना पड़ सकता है, क्योंकि ऐसा कहा जा रहा है कि जोमैटो ऊबर ईट्स की टीम को नहीं लेगी। हालांकि, ऊबर ईट्स इस टीम को अपने दूसरे वर्टिकल्स में भेज सकती है।