Arthgyani
होम > न्यूज > अर्थव्यवस्था समाचार > विदेशी मुद्रा भंडार

433.59 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर विदेशी मुद्रा भंडार

विदेशी मुद्रा भंडार में 5.02 अरब डॉलर का उछाल

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा प्रस्तुत आंकड़ों  के अनुसार 27 सितम्बर को देश का विदेशी मुद्रा भंडार 5.02 अरब डॉलर उछलकर 433.59 अरब डॉलर के अब तक के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया। इससे पहले 20 सितंबर को समाप्त सप्ताह में यह 38.8 करोड़ डॉलर लुढ़ककर 428.57 अरब डॉलर पर रहा था। विदेशी मुद्रा भंडार की यह बीते  छह महीने में ज्यादा की सबसे बड़ी तेजी है। इस साल 29 मार्च को समाप्त सप्ताह में यह 5.24 अरब डॉलर बढ़ा था।

रिजर्व बैंक द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार 27 सितम्बर को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार का सबसे बड़ा घटक विदेशी मुद्रा परिसंपत्ति 4.94 अरब डॉलर बढ़कर 401.62 अरब डॉलर पर पहुंच गया। इस दौरान स्वर्ण भंडार भी 10.2 करोड़ डॉलर की वृद्धि के साथ 26.95 अरब डॉलर हो गया। आलोच्य सप्ताह में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के पास आरक्षित निधि 1.7 करोड़ डॉलर घटकर 3.61 अरब डॉलर और विशेष आहरण अधिकार 70 डॉलर की गिरावट के साथ 1.43 अरब डॉलर रह गया है|

विदेशी मुद्रा भंडार क्या है?

विदेशी मुद्रा भंडार किसी भी देश के केंद्रीय बैंक द्वारा रखी गई धनराशि या अन्य परिसंपत्तियां हैं| यह भंडार एक या एक से अधिक मुद्राओं में रखे जाते हैं|ज्यादातर डॉलर और कुछ हद तक यूरो में विदेशी मुद्रा भंडार में शामिल होता है|विदेशी मुद्रा भंडार को फॉरेक्स रिजर्व या एफएक्स रिजर्व भी कहा जाता है|विदेशी मुद्रा भंडार का उपयोग केंद्रीय बैंक जरूरत पड़ने पर वह अपनी देनदारियों के भुगतान में  करता है|विदेशी मुद्रा भंडार में वृद्धि के दो मुख्य कारक हैं निर्यात एवं अप्रवासी भारतियों द्वारा भेजी गयी धनराशि|