Arthgyani
होम > न्यूज > फास्टैग जागरूकता

525 टोल प्लाजा पर फास्टैग व्यवस्था लागू की गयी है: नितिन गडकरी

प्रतिदिन एकत्रित की जा रही है 80 करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि

टोल प्लाजा पर यातायात निर्बाध गति से संचालित हो इसके लिए सभी 525 टोल प्लाजा पर फास्टैग व्यवस्था लागू की गयी है|अब तक एक करोड़ से ज्यादा वाहनों को इससे जोड़ा गया है। वाहन निर्माता कंपनियों को कहा गया है कि अब जो भी वाहन बेचेंगे उनमें फास्टैग प्रणाली पहले से ही लागू होनी चाहिए। इससे लोगों को अनावश्यक दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ेगा।ये बातें सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहीं|वे फास्टैग जागरूकता कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए उपस्थित जनसमुदाय को संबोधित कर रहे थे|

एकत्रित की जा रही है 80 करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि:

फास्टैग से बढे राजस्व पर चर्चा करते हुए गडकरी ने कहा कि राष्ट्रीय राजमागों के टोल प्लाजा पर जाम की समस्या से धीरे धीरे मुक्ति मिल रही है |इसके साथ ही फास्टैग के जरिए प्रति दिन 80 करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि एकत्रित की जा रही है। उन्होंने कहा कि फास्टैग के प्रति लोगों में जागरूकता बढ रही है और 20 लाख वाहनों से डिजिटल माध्यम से टोल प्लाजा पर भुगतान किया जा रहा है। कई जगह कुछ दिक्कतें हैं जिन्हें दूर करने के लिए क्षेत्रीय प्रबंधन को कहा गया है कि सुचारू व्यवस्था होने तक कुल लेन का 25 प्रतिशत हिस्सा अस्थायी तौर पर नकदी के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।यह व्यवस्था अस्थायी है और इसे कभी भी बंद किया जा सकता है इसलिए वाहनों के मालिक जल्द से जल्द अपने वाहन पर फास्टैग लगा दें।

अक्षय कुमार भी हुए शामिल :

कार्यक्रम में सड़क सुरक्षा के लिए मंत्रालय के एम्बेसडर मशहूर अभिनेता अक्षय कुमार भी मौजूद थे। इस दौरान फास्टैग संबंधी जन जागरूकता बढ़ाने वाली एक विज्ञापन फिल्म भी लांच की गयी। अक्षय ने कुछ माह पहले सड़क सुरक्षा को लेकर भी एक विज्ञापन तैयार किया था|अक्षय कुमार ने फास्टैग प्रणाली के संचालन पर खुशी जताई और कहा कि विदेशों में इस तरह की व्यवस्था आम है। उन्होंने देशवासियों से इस प्रणाली से जुड़ने का आग्रह किया है। कार्यक्रम के समापन संबोधन में केंद्रीय मंत्री ने फास्टैग प्रणाली को न सिर्फ राजमार्ग जाम से मुक्ति दिलाने वाला बताया बल्कि इससे टोल प्लाजा पर बेवजह बर्बाद होने वाला ईंधन बचेगा और समय की बचत जैसे अन्य फायदे भी गिनाये| गडकरी ने देशवासियों से इस व्यवस्था को स्वीकार करने का विनम्र आग्रह भी किया|