Arthgyani
होम > न्यूज > 75 करोड़ डॉलर का हुआ पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन का अंतरराष्ट्रीय बांड

75 करोड़ डॉलर का हुआ पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन का अंतरराष्ट्रीय बांड

पीएफसी बांड के लिये 2.2 अरब डॉलर की बोली प्राप्त हुई।

सार्वजनिक क्षेत्र की पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन (पीएफसी) का 75 करोड़ डॉलर का अंतरराष्ट्रीय बांड सोमवार को एनएसई, आईएफएसी गिफ्ट सिटी में सूचीबद्ध हुआ। कंपनी का यह एकमुश्त सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय बांड निर्गम है। इस मौके पर पीएफसी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक राजीव शर्मा ने संवाददाताओं से कहा कि कंपनी का यह एक बार में पेश किया गया सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय बांड निर्गम है।

कुल 75 करोड़ डॉलर के इस बांड के लिये 2.2 अरब डॉलर की बोली प्राप्त हुई। 10.25 वर्ष की अवधि वाले बांड पर कूपन रेट यानी ब्याज दर 3.95 प्रतिशत है। सूचीबद्धता के मौके पर शर्मा ने कहा कि इससे भारत में अंतरराष्ट्रीय बांड के लिये एक गतिशील और दक्ष बाजार के विकास को बढ़ावा मिलेगा। यह बांड बाद में इंडिया आईएनएक्स (इंडिया इंटरनेशनल एक्सचेंज) और सिंगापुर स्टॉक एक्सचेंज में भी सूचीबद्ध होगा।

कंपनी के बांड को मिला अच्छा सहयोग

कंपनी के अनुसार उसके बांड को चार गुना अभिदान मिला है और उसे हर क्षेत्र से बोली मिली है। कुल बोली में 42 प्रतिशत अभिदान अमेरिकी बाजार से और 41 प्रतिशत एशियाई बाजारों से तथा 17 प्रतिशत यूरोपीय बाजारों से प्राप्त हुआ। इस बांड के बाद पीएफसी का विदेशी मुद्रा में कर्ज 6 अरब डॉलर को पार कर गया है। शर्मा ने कहा, ‘‘जब पिछले साल मार्च में पीएफसी ने आरईसी का अधिग्रहण किया था, निवेशकों, कर्जदाताओं और रेटिंग एजेंसियों ने इसके प्रतिकूल प्रभाव को लेकर गंभीर चिंता जतायी थी लेकिन कंपनी ने कठिन समय में मजबूती दिखायी और प्रदर्शन मजबूत रहा।

’’कंपनी ने 2018-19 में 68,000 करोड़ रुपये का कर्ज दिया जो इससे पिछले साल के मुकाबले 13 प्रतिशत अधिक है।पीएफसी का सकल एनपीए (गैर-निष्पादित परिसंपत्ति) 9.39 प्रतिशत से घटकर 2018-19 में 9.05 प्रतिशत रहा जबकि शुद्ध एनपीए 4.61 प्रतिशत से 4.28 प्रतिशत रहा।

एक झलक:

  • कंपनी के अनुसार उसके बांड को चार गुना अभिदान मिला है।
  • कुल बोली में 42 प्रतिशत अभिदान अमेरिकी बाजार से।
  • 41 प्रतिशत एशियाई बाजारों से।
  • 17 प्रतिशत यूरोपीय बाजारों से प्राप्त हुआ।
  • इस बांड के बाद पीएफसी का विदेशी मुद्रा में कर्ज 6 अरब डॉलर को पार कर गया है।
  • कंपनी ने 2018-19 में 68,000 करोड़ रुपये का कर्ज दिया।
  • इससे पिछले साल के मुकाबले 13 प्रतिशत अधिक है।
  • पीएफसी का सकल एनपीए 9.39 प्रतिशत से घटकर 9.05 प्रतिशत रहा।
  • जबकि शुद्ध एनपीए 4.61 प्रतिशत से 4.28 प्रतिशत रहा।