Arthgyani
होम > न्यूज > DLF नहीं, इस कंपनी के मालिक हैं भारत के रीयल एस्टेट किंग

DLF नहीं, इस कंपनी के मालिक हैं भारत के रीयल एस्टेट किंग

हुरून इंडिया की तरफ से जारी लिस्ट में DLF है दुसरे स्थान पर

देश में बहुत से क्षेत्रों में भले मंदी की मार हो मगर हुरून इंडिया के द्वारा जारी आज के लिस्ट को देख को लगता है जैसे रियल एस्टेट में मंदी ने ज्यादा प्रभाव नहीं डाला है| रीयल एस्टेट सेक्टर में कुछ कारोबारी ऐसे भी हैं, जिनकी संपत्ति अरबों रुपए में है| हुरून इंडिया की तरफ से जारी रिपोर्ट के अनुसार देश में एमपी लोधा और परिवार, जो लोधा डेवलपर्स के नाम से कंपनी संचालित करते हैं, उनकी संपत्ति 31960 करोड़ रुपये के पार है| हुरून इंडिया ने टॉप-10 सूची जारी की है| सूचीबद्ध कंपनियों के मामले में उनके बाजार पूंजीकरण के आधार पर सूची में स्थान दिया गया है| वहीं गैर- सूचीबद्ध कंपनियों के मामले में उनके ताजा वित्तीय ब्योरे को लिया गया है| हुरुन रिपोर्ट और ग्रोही इंडिया ने आज सोमवार को जो ग्रोही हुरुन इंडिया रीयल एस्टेट रिच लिस्ट 2019 जारी किया वह उसका तीसरा संस्करण है| इस लिस्ट में DLF के राजीव सिंह दूसरे और एंबेसी समूह के जितेंद्र वीरवानी तीसरे स्थान पर हैं|

लोधा की संपत्ति में हुई 18% की वृद्धि

हुरून के मुताबिक मंगल प्रसाद लोधा के स्वामित्व वाली कंपनी मैक्रोटेक डेवलपर्स (पुराना नाम लोधा डेवलपर्स) लगातार दूसरे साल इस लिस्ट में पहले स्थान पर रहे हैं| अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार लोधा की संपत्ति में इस साल 18 फीसदी का इजाफा हुआ है|
दूसरे स्थान पर रहे DLF के राजीव सिंह की कुल संपत्ति 25080 करोड़ रुपए है| यह 2018 के मुकाबले 42 फीसदी ज्यादा है| विदित हो की इस लिस्ट में 30 सितंबर 2019 तक रही संपत्ति को शामिल किया गया है|

वहीं तीसरे स्थान पर एंबेसी प्रॉपर्टी डेवलपमेंट के जीतेंद्र विरवानी की कुल संपत्ति 24750 करोड़ रुपए है| चौथे स्थान पर हीरानंदनी कम्यूनिटिज समूह के नीरंजन हीरानंदनी हैं| उनकी कुल संपत्ति 17030 करोड़ रुपए रही है|

रहेजा समूह के मालिक हैं छठे स्थान पर

इसके बाद पांचवे स्थान पर के. रहेजा समूह के चंदरू रहेजा रहे, जिनकी संपत्ति 15480 करोड़ रुपए  है| वहीं छठे स्थान पर ओबेरॉय रियल्टी के विकास ओबेरॉय रहे, जिनकी संपत्ति 13910 करोड़ रुपए है| सातवें स्थान पर बागमाने डेवलपर्स के राजा बागमाने रहे, जिनकी संपत्ति 9960 करोड़ रुपए है|
आठवें स्थान पर हीरानंदनी सिंगापुर के सुरेंद्र हीरानंदनी रहे, जिनकी संपत्ति 9720 करोड़ रुपए है| वहीं रनवाल डेवलपर्स के सुभाष रनवाल नौवें स्थान पर रहे, जिनकी संपत्ति 7100 करोड़ रुपए है| 10वें स्थान पर पीरामल रियल्टी के अजय पीरामल रहे, जिनकी संपत्ति 6560 करोड़ रुपए है|
रिपोर्ट के मुताबिक मुंबई, दिल्ली और बंगलूरू में सबसे ज्यादा अरबपति रियल एस्टेट कारोबारी रहते हैं| सौ सबसे अधिक अमीरों में से 37 मुंबई के हैं| इस सूची में दिल्ली और बेंगलुरु के 19-19 उद्यमियों के नाम शामिल किए गए हैं|

रीयल एस्टेट क्षेत्र के 100 अमीरों में 8 महिलाएं भी

रीयल एस्टेट क्षेत्र के 100 सबसे अधिक अमीर उद्यमियों की कुल संपत्ति 2,77,080 करोड़ रूपए या 39.5 अरब डॉलर रही हैं| यह 2018 की तुलना में 17 प्रतिशत अधिक है| सर्वे में एक खास बात है खास बात यह है कि सूची में शामिल 59 प्रतिशत व्यक्तिगत लोग पहली पीढ़ी के उद्यमी हैं| इस बार सूची में आठ महिलाएं भी शामिल हैं| गोदरेज प्रॉपर्टीज की स्मिता वी कृष्णा सूची में शामिल सबसे अमीर महिला हैं| उनकी कुल संपत्तियां 3,560 करोड़ रुपए आंकी गई है| सूची में शामिल लोगों की औसत आयु 56 साल है| चार की उम्र 40 साल से कम और तीन की 80 साल से अधिक है|