Arthgyani
होम > न्यूज > सरकार का प्रयास लाया रंग, 10 महीनों में सोने का आयात हुआ 9% कम

सरकार का प्रयास लाया रंग, 10 महीनों में सोने का आयात हुआ 9% कम

चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-जनवरी के दौरान करीब 9 प्रतिशत घटकर 24.64 अरब डॉलर (1.74 लाख करोड़ रुपए) रहा

केंद्र सरकार ने जिस मंसा के साथ पिछले साल के बजट में सोने के आयात पर आयात कर बढ़ाया था, वह रंग लाता हुआ दिख रहा है| सोने का आयात चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-जनवरी के दौरान करीब 9 प्रतिशत घटकर 24.64 अरब डॉलर (1.74 लाख करोड़ रुपए) रह गया| वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़े के अनुसार इससे पूर्व वित्त वर्ष 2018-19 की इसी अवधि में मूल्यवान धातु का आयात 27 अरब डॉलर था|

पिछले साल जुलाई से ही गिरावट की जा रही है दर्ज 

ज्ञात हो कि सोने के आयात में कमी से देश का व्यापार घाटा कम होकर अप्रैल-जनवरी अवधि में 133.27 अरब डॉलर रहा जबकि एक साल पहले इसी अवधि में यह 163.27 अरब डॉलर था| हमेशा डिमांड में रहने वाली इस पीली धातु के आयात में पिछले साल जुलाई से ही गिरावट दर्ज की जा रही है| हालांकि पिछले साल अक्टूबर और नवंबर में इसमें सकारात्मक वृद्धि दर्ज हुई थी| वहीं दिसंबर में करीब 4 प्रतिशत और इस साल जनवरी में 31.5 प्रतिशत की गिरावट आयी।

आयात शुल्क 10% से बढ़ाकर 12.5% किया गया था

विदित हो कि भारत सोने का सबसे बड़ा आयातक देश है| उसमें भी मुख्य रूप से आभूषण उद्योग की मांग को पूरा करने के लिये इसका आयात किया जाता है| मात्रा के हिसाब से देखा जाए तो देश में सालाना 800 से 900 टन सोने का आयात होता है| सोने के आयात का व्यापार घाटा और चालू खाते के घाटे पर नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिए पिछले वर्ष के बजट में सरकार ने धातु पर आयात शुल्क 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 12.5 प्रतिशत कर दिया गया था|

रत्न एवं आभूषण निर्यात हुआ कम!

हालांकि उद्योग विशेषज्ञों का दावा है कि इस क्षेत्र में काम कर रही इकाइयां उच्च शुल्क के कारण अपना विनिर्माण आधार पड़ोसी देश में स्थापित कर रहे हैं| रत्न एवं आभूषण निर्यात चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-जनवरी के दौरान 1.45 प्रतिशत घटकर 25.11 अरब डॉलर रहा है| ज्ञात हो कि देश का स्वर्ण आयात 2018-19 में करीब 3 प्रतिशत घटकर 32.8 अरब डॉलर रहा था|

रिजर्व बैंक (RBI) के आंकड़े के अनुसार चालू खाते का घाटा मौजूदा वित्त वर्ष में जुलाई-सितंबर के दौरान घटकर सकल घरेलू उत्पाद (GDP) का 0.9 प्रतिशत यानी 6.3 अरब डॉलर रहा| एक साल पहले इसी अवधि में यह GDP का 2.9 प्रतिशत या 19 अरब डॉलर था|

सोने की छड़ों का आयात बढ़ा 

पीटीआई के साथ साझा रिपोर्ट के अनुसार रत्न एवं आभूषण निर्यात संवर्द्धन परिषद के आंकड़े में यह बताया गया है कि बिना तराशे यानी कच्चे हीरों का आयात चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-जनवरी के दौरान 15.54 प्रतिशत घटकर 11 अरब डॉलर रहा है| हालांकि इसी अवधि में सोने की छड़ों का आयात 3.56 प्रतिशत बढ़कर 6.6 अरब डॉलर रहा|

इन सम्पूर्ण आंकड़ों को देख कर यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि सोने के आयात के कम से होने से निश्चित रूप से व्यापार घाटा कम हुआ है मगर आभूषण निर्माण का व्यवसाय पडोसी देशो में जाना बहुत दुखद है|