Arthgyani
होम > न्यूज > भारत को हो सकता है फायदा कच्चे तेल की मंदी के कारण

भारत को हो सकता है फायदा कच्चे तेल की मंदी के कारण

सोमवार को कच्चे तेल में 30 प्रतिशत तक की कमी देखने को मिली। 

कोरोना वायरस के चलते कच्चे तेल में काफी गिरावट आ रही है। व्यापरियों की मांग घट रही है। सऊदी अरब भी अप्रैल से कच्चे तेल के दाम घटाने जा रहा है। जिसके चलते तेल के उत्पादन में भी अच्छी खासी वृद्धि होगी। सोमवार को कच्चे तेल में 30 प्रतिशत तक की कमी देखने को मिली।

आर्थिक मामलों के सचिव अतानु चक्रवर्ती का कहना है कि कच्चे तेल की कीमत में गिरावट देश के लिए अच्छा है। उन्होंने बताया की कच्चे तेल के भाव में कमी का कारण कोरोना वायरस है। कोरोना के कारण घेरलू और वश्विक बाजारों में काफी गिरावट देखने को मिल रही है। आज इक्विटी इंडेक्स, बीएसई सेंसक्स और एनएसई निफ्टी 4 प्रतिशत की गिरावट के साथ खुला।

30 शेयरों वाले सूचकांक में 1,536 अंको की गिरावट

कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या दुनिया भर में 1,07000 पहुंच गई है। कोरोना का असर बहुत देशों तक पहुंच गया है। जिसका असर शेयर बाजार पर बहुत ज्यादा देखने को मिल रहा है। इतना असर पड़ गया है कोरोना वायरस का 30 शेयरों वाला सूचकांक आज 1,536 अंको की गिरावट के साथ 36,040 पर आ गया है। जबकि 50 शेयरों वाला निफ्टी सूचकांक 425 अंकों की गिरावट के साथ 10,564 पर आ गया है।

आर्थिक मामलों के सचिव अतानु चक्रवर्ती ने ये भी कहा की भारतीय बाजार में तेल का कोई ख़ास मुद्दा नहीं है।  देश के पास अच्छी मात्रा में विदेशी मुद्रा भंडार है।  उन्होंने बताया कि भारतीय रिज़र्व बैंक के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, देश विदेश मुद्रा भंडार 5.42 बिलियन डॉलर बढ़कर सप्ताह भर में 481.54 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया है।  फिलहाल भारतीय अर्थव्यस्था काफी मजबूत बनी हुई है।