Arthgyani
होम > न्यूज > सरकार ने एलआईसी की हिस्सेदारी बेचने का किया ऐलान

सरकार ने एलआईसी की हिस्सेदारी बेचने का किया ऐलान

LIC बेचेगी अपनी हिस्सेदारी

1 फरवरी 2020 शनिवार को  वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट पेश किया। इस सत्र के बजट मे निर्मला सीतारमण ने घोषणा की,  सरकार भारतीय जीवन बिमा निगम (LIC) मे अपनी हिस्सेदारी बेचेगी। सरकार इसके लिए आईपीओ पेश करने की तैयारी कर रही है।

भारतीय जीवन बीमा निगम देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी है, जिसके पास जीवन बीमा बाजार की करीब तीन-चौथाई हिस्सेदारी है।  वित्त वर्ष 2020-21 के लिए सरकार ने 2.1 लाख करोड़ रुपये के विनिवेश का लक्ष्य रखा है, जबकि मौजूदा वित्त वर्ष में यह लक्ष्य 1.05 लाख करोड़ रुपये का है।

विश्लेषकों की राय

विश्लेषकों का कहना है कि इस वित्त वर्ष में भी सरकार का लक्ष्य 1 लाख रुपये अधिक का ही होगी, लेकिन केंद्र सरकार ने नए वित्त वर्ष के लिए लक्ष्य को दोगुना कर दिया है।  आईडीबीआई बैंक में अपनी बची-कुची हिस्सेदारी सरकार ने बेचने का फैसला किया है। इस साल सरकार ने अभी तक विनिवेश के जरिए 18,094.59 करोड़ रुपये ही जुटाए हैं।
एलआईसी के आईपीओ पर राइट हॉराइजंस के संस्थापक और सीईओ अनिल रेगो ने कहा, “एलआईसी का आईपीओ कंपनी के परिचालन की पारदर्शिता बेहतर करेगा। “यस सिक्योरिटीज के वरिष्ठ प्रेजिडेंट अमर अंबानी ने कहा कि नए वित्त वर्ष में सरकार का विनिवेश का बड़ा लक्ष्य एलआईसी के आईपीओ की वजह से है।  उन्होंने कहा, “यह हमारे 1.35 लाख करोड़ रुपये क लक्ष्य की तुलना में काफी अधिक है।

 

एक झलक:

  • कॉर्पोरेट प्रोफेशनल ग्रुप के संस्थापक पवन कुमार विजय ने कहा कि एलआईसी के आईपीओ से परिचालन कुशलता और बेहतर गवर्नेंस सुनिश्चित किया जाएगा।
  • दीपम के मुताबिक, इस साल सरकार ने 1,881.21 करोड़ रुपये एनिमी शेयर भी बेचे।
  • ये शेयर चीन या पाकिस्तान चले गए लोगों के थे।
  • आईआरसीटीसी (637.97 करोड़ रुपये) शामिल रहे।
  • इसके अलावा, राइट्स के ओएफएस के 730 करोड़ रुपये।
  • सीपीएसई ईटीएफ से 10,000 करोड़ रुपये।
  • भारत 22 ईटीएफ से 4,368.80 करोड़ रुपये जुटाए गए।