Arthgyani
होम > न्यूज > NPS

NPS में आप ख़ुद ही खाता खोल सकते हैं प्रॉफिट भी मिलती है दुगुनी

सेवानिवृत्ति के बाद भी नियमित आय पा सकते हैं NPS से ।

लोग अक्सर भविष्य की योजनायें बनाते समय सेवानिवृत्ति के बाद उनकी आय के साधन क्या हो, इस बारे में ख़ास चिंतित होते हैं। सेवानिवृत्ति के बाद भी आपकी ज़िन्दगी आराम से चलती रहे इसके लिए अभी से निवेश बहुत जरूरी है। ऐसी कई योजनाएं मौजूद हैं, जिसमें निवेश से आप सेवानिवृत्ति के बाद भी नियमित आय पा सकते हैं। इन्हीं योजनओं में से एक आकषर्क योजना है नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस)। इसमें निवेश पर दो लाख रुपये तक की टैक्स छूट भी मिलती है। साथ ही इसपर ऊंचा रिटर्न भी मिलता है।

क्या है नेशनल पेंशन स्कीम (NPS)

वर्ष 2004 में एनपीएस सिर्फ़ सरकारी कर्मचारियों के लिए शुरू किया गया था। 2009 में इसे सभी के लिए खोल दिया गया जिससे न्यूनतम उम्र 18 वर्ष और अधिकतम 60 वर्ष का कोई भी व्यक्ति इस पेंशन खाते में नियमित रूप से योगदान दे सकता है। इसमें निवेश की हुई धन राशि के एक हिस्से को आप एक बार में निकाल भी सकते हैं और बची हुई राशि का इस्तेमाल सेवानिवृत्ति के बाद नियमित आय प्राप्त करने के लिए भी कर सकते हैं। नेशनल पेंशन स्कीम में केंद्र सरकार, राज्य सरकार, निजी क्षेत्र के कर्मचारी और आम नागरिक भी निवेश कर सकते हैं।

एनपीएस में दो तरह के खाते होते हैं, पहली श्रेणी (टियर 1) और दूसरी श्रेणी ( टियर 2) खाता। 60 साल की उम्र तक टियर 1 से राशि नहीं निकाल सकते हैं। टियर 2 एनपीएस खाता एक बचत खाते की तरह काम करता है, जहां से आप अपनी ज़रूरत के हिसाब से पैसे निकाल सकते हैं। वित्तीय सलाहकारों का कहना है कि टियर 2 खाते की सुविधा एनपीएस को अन्य निवेशक विकल्पों की तुलना में आकर्षक बना देती है।

साथ ही इसमें टैक्स छूट का दोहरा लाभ मिलता है। सरकार ने परिपक्वता (मैच्योरिटी) के बाद 60 फीसदी एनपीएस निकासी को कर मुक्त (टैक्स फ्री) कर दिया है। इसमें निवेश आयकर की धारा 80 सीसीडी (1), 80 सीसीडी (1बी) और 80 सीसीडी (2) के तहत टैक्स छूट मिलती है। एनपीएस पर धारा 80सी यानी 1.50 लाख रुपये से अलग 50,000 रुपये की और छूट ले सकते हैं।

अब घर बैठे ऑनलाइन खाता खोलें

यदि आपके बैंक खाते की केवाईसी पूरी है है तो एनपीएस खाता घर बैठे ऑनलाइन खोल सकते हैं। आप मोबाइल पर भेजे गए ओटीपी का उपयोग करके रजिस्ट्रेशन को मान्य कर सकते हैं। इसके बाद आपको एक स्थाई सेवानिवृत्ति खाता संख्या (पीआरएएन) मिलेगी। एनपीएस की प्रक्रिया के लिए 125 रुपये पंजीकरण शुल्क लगता है।

एनआरआई के निवेश को रिजर्व बैंक और फेमा द्वारा नियंत्रित किया जाता है।