Arthgyani
होम > न्यूज > नए साल में OTP के द्वारा SBI एटीएम से निकाल सकेंगे कैश, जानें कैसे

नए साल में OTP के द्वारा SBI एटीएम से निकाल सकेंगे कैश, जानें कैसे

स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया ने ट्वीट कर दी जानकारी

बैंकिंग लेनदेन दिन प्रतिदिन आसान होते जा रहा है| इसी कड़ी में स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया (SBI) ने एक नई सुविधा देते हुए अपने ATM के द्वारा कार्डलेस कैश निकालने की सुविधा प्रदान की है| इस सुविधा का लाभ OTP (one time password) के द्वारा उठाया जा सकता है| यह सुविधा आगामी 1 जनवरी 2020 से लागू हो जाएगी| SBI ने यह सुचना ट्वीट के माध्यम से दी| भारत की सबसे बड़ी कमर्शियल बैंक SBI ने यह सुविधा ATM में किसी भी तरह के अनधिकृत लेनदेन पर रोक लगाने के उद्देश्य से की है|

रात 8 बजे से सुबह 8 बजे तक काम करेगा यह 

SBI के डेबिट कार्ड से उनके ही ATM से रात आठ बजे से सुबह आठ बजे तक पैसा निकालते हैं तो आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक OTP आएगा| इस OTP को डालने के बाद ही ATM से पैसे निकलेंगे|

बैंक यह व्यवस्था दस हजार या उससे ऊपर की निकासी पर लागू कर रहा है| उससे कम रकम की निकासी के लिए पूर्व से स्थापित व्यवस्था चलती रहेगी| स्टेट बैंक अधिकारियों के अनुसार विगत कुछ समय ATM से अवैध लेनदेन और जालसाजी की घटनाएं काफी बढ़ी हैं| SBI ने इन घटनाओं का अध्ययन किया तो पाया कि 68 फीसदी फ्रॉड रात में किए गए हैं| OTP सिस्टम द्वारा जनरेट किया जाएगा, जिसमें अंक और अंग्रेजी के अक्षर दोनों होंगे| ये OTP केवल एक लेनदेन के लिए मान्य होगा और निश्चित अवधि के बाद स्वत: ही निष्क्रिय हो जाएंगे|

अन्य व्यवस्था में कोई परिवर्तन नहीं 

बैंक ने स्पष्ट किया है कि OTP के अलावा एटीएम से रुपए की निकासी संबंधी अन्य कोई बदलाव नहीं किए गए हैं| OTP की व्यवस्था फिलहाल उन्हीं SBI के डेबिट कार्ड धारकों पर लागू होगी जो स्टेट बैंक का एटीएम इस्तेमाल करेंगे| यदि आप दूसरे बैंक के ATM से पैसा निकालते हैं तो यह नियम लागू नहीं होगा| इसी तरह से यदि आप दूसरे बैंक के डेबिट कार्ड से SBI के एटीएम से पैसा निकालते हैं तो उस पर भी यह नियम लागू नहीं होगा।

ज्ञात हो की one time password (OTP) व्यवस्था काफी हद तक सुरक्षित मानी जाती है और यह खाताधाराक के मोबाइल से सीधे संलग्न होती है| फलतः OTP के द्वारा लेनदेन तुलनात्मक रूप से ज्यादा सुरक्षित है| उम्मीद ही कि SBI के इस कदम से फ्रॉड की घटनाओं में कमी आए| अगर SBI की यह व्यवस्था सफल होती है तो अन्य बैंक भी इसको फॉलो करेंगे|