Arthgyani
होम > न्यूज > देश में मछली पालन को बढ़ावा देने के लिए 'प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना' की शुरुआत की गई है।

जानें क्या है प्रधानमंत्री मत्स्य सेवा योजना और e-Gopala app?

किसे मिलेगा लाभ? KCC से क्यों जोड़ा गया योजना को? - Pradhanmantri Matsya Sampada Yojna

आज पीएम मोदी ने मत्स्य संपदा योजना (Pradhanmantri Matsya Sampada Yojna) की शुरुआत की है। इस नयी योजना के द्वारा सरकार Fishing Industry से जुड़े करोड़ो लोगो को लाभ पहुँचाना चाहती ह। योजना से करीब 55 लाख लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है। योजना की खासियत यह है कि इससे पांच साल में अतिरिक्‍त 70 लाख टन मछली का उत्‍पादन हो सकेगा। जिससे देश से मछलियों का निर्यात दोगुना यानी एक लाख करोड़ रुपए तक पहुंच सकेगा। PMMSY की शुरुआत करने के मौके पर प्रधानमंत्री ने किसानों के लिए एक व्यापक सूचना पोर्टल ई-गोपाला ऐप (Gopala App) को भी लॉन्च किया है।

क्या है प्रधानमंत्री का मत्स्य संपदा योजना (What is Pradhanmantri Matsya Sampada Yojna)?

केंद्र सरकार ने 2022 तक किसानों कि आय को दुगना करने का लक्ष्य तय किया है। किसानों कि आय (Income from agriculture) बढ़ाने की जरुरत को देखते हुए सरकार द्वारा पशुपालन एवं मछली पालन की योजनाओं को बढ़ावा दिया जा रहा है। देश में मछली पालन को बढ़ावा देने के लिए ‘प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना‘ की शुरुआत की गई है। इस योजना को पूरे देश भर में लागू किया गया है। जिसे BLUE REVOLUTION (नीली क्रांति) कहा जा रहा है।

इस मत्स्य संपदा योजना (PMMSY) का लाभ केवल मछुआरा समुदाय से संबंध रखने वाले लोगों को ही मिलेगा।

मछली पालन क्षेत्र में अभी तक का सबसे बड़ा फंड

पीएम मत्स्य संपदा योजना के अंतर्गत 20,050 करोड़ रुपए का फंड बनाया गया है। आपको बता दें यह मत्स्य पालन क्षेत्र (Fisheries sector) में अब तक का सबसे बड़ा फंड है। इसमें से मरीन, इनलैंड फिशरीज और एक्वाकल्चर में लगभग 12,340 करोड़ रुपए और फिशरीज इन्फ्रास्ट्रक्चर (Fisheries infrastructure) के लिए लगभग 7,710 करोड़ रुपए का निवेश का प्रस्ताव किया गया है। इस मत्स्य संपदा योजना (PMMSY) का लाभ केवल मछुआरा समुदाय से संबंध रखने वाले लोगों को ही मिलेगा।

नई सरकारी योजना से कौन लाभ ले सकता है?

जलीय क्षेत्रों से संबंध रखने वाले और जलीय कृषि (Aquaculture) से जुड़े लोग या इसमें इच्छुक व्यक्ति इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। इसके अलावा समुद्री तूफान, बाढ़, चक्रवात जैसी प्राकृतिक आपदा से पीड़ित मछुआरों को भी इसका फायदा मिलेगा। योजना के अन्तर्गत मत्स्य पालक, मछली बेचने वाले, स्वयं सहायता समूह, मत्स्य उधमी, फिश फार्मर आवेदन कर सकते हैं।

किसान क्रेडिट कार्ड धारक 4 फीसदी ब्याज दर पर 3 लाख रुपए तक का कर्ज ले सकेंगे।

मछलीपालन को किसान क्रेडिट कार्ड से जोड़ा गया, कम ब्याज पर कर्ज की सुविधा

सरकार ने मछलीपालन को KCC से भी जोड़ दिया है। केसीसी के माध्यम से किसान मछली, झींगा मछलियों के पालन के लिए आसानी से कर्ज ले सकेंगे। किसान क्रेडिट कार्ड धारक 4 फीसदी ब्याज दर पर 3 लाख रुपए तक का कर्ज ले सकेंगे। इतना ही नहीं, समय पर कर्ज भुगतान करने पर ब्याज में अलग से छूट भी मिलेगी।

क्या है E-Gopala App?

ई-गोपाला ऐप के बारे में खुद PM Modi ने ट्वीट करके जानकारी दी है। उन्होंने कहा है यह App हमारे मेहनती किसानों के लिए एक व्यापक नस्ल सुधार बाजार और सूचना पोर्टल प्रदान करता है। यह एक अभिनव प्रयास है, जिससे कृषि क्षेत्र को बहुत लाभ होगा। संक्षेप में E-Gopala App किसानों के प्रत्यक्ष उपयोग के लिए एक व्यापक नस्ल सुधार बाजार और सूचना पोर्टल है।

  • App के जरिए कृत्रिम गर्भाधान, पशु की प्राथमिक चिकित्सा, टीकाकरण, उपचार आदि की जानकारी मिलेगी
  • पशु पोषण के लिए किसानों का मार्गदर्शन किया जाएगा
  • टीकाकरण, गर्भावस्था निदान, आदि के लिए तारीख और किसानों को क्षेत्र में विभिन्न सरकारी योजनाओं, अभियानों के बारे में भी यह ऐप सूचित करेगा

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस, शेयर बाजार और विभिन्न सरकरीं योजनाओं के रेगुलर अपडेट्स के लिए Arthgyani.in से जुड़े रहे।