Arthgyani
होम > न्यूज > PNB ने किया इनकार हाउसिंग फाइनेंस सब्सिडियरी में शेयर बेचने से

PNB ने किया इनकार हाउसिंग फाइनेंस सब्सिडियरी में शेयर बेचने से

PNB नहीं बेचेगा अपने शेयर

पंजाब नेशनल बैंक (PNB) अपनी सब्सिडियरी PNB हाउसिंग फाइनेंस में शेयर नहीं बेचेगा और प्रमोटर के तौर पर न्यूनतम 26 पर्सेंट हिस्सेदारी बरकरार रखेगा। इससे PNB के इस सब्सिडियरी में शेयर बेचने की अटकलों पर विराम लग गया है।PNB हाउसिंग फाइनेंस के लगभग 1,500 करोड़ रुपये जुटाने के लिए नए शेयर्स इश्यू करने पर कंपनी में PNB की हिस्सेदारी अभी 32.43 पर्सेंट से घटकर 27.5 पर्सेंट रह जाएगी। इस इश्यू में PNB शेयर नहीं खरीदेगा।पिछले वर्ष PNB के कंपनी में अपनी हिस्सेदारी बेचने की अटकल थी।

PNB हाउसिंग फाइनेंस ने बताया, ‘PNB ने कंपनी में न्यूनतम 26 पर्सेंट शेयरहोल्डिंग रखने और प्रमोटर के तौर पर बरकरार रहने की पुष्टि की है।’PNB हाउसिंग फाइनेंस के मैनेजिंग डायरेक्टर संजय गुप्ता ने ईटी को बताया कि PNB की हिस्सेदारी 26 पर्सेंट से कम न होने के लिए कंपनी ने इक्विटी के जरिए फंड जुटाने की अपनी योजना को एक-चौथाई घटाया है। पहले 2,000 करोड़ रुपये का फंड हासिल करने का प्रपोजल था।कंपनी के मौजूदा शेयरहोल्डर्स कार्लाइल ग्रुप और अटलांटिक सिंगापुर नया इनवेस्टमेंट करेंगे।

PNB हाउसिंग फाइनेंस का प्रॉफिट 22 प्रतिशत गिरा

कंपनी के बोर्ड में चेयरमैन को नॉमिनेट करने के लिए कम से कम 26 पर्सेंट हिस्सेदारी की जरूरत होती है। PNB के चीफ एग्जिक्यूटिव एस एस मल्लिकार्जुन अभी PNB हाउसिंग के चेयरमैन हैं।PNB हाउसिंग फाइनेंस ने बोर्ड मीटिंग के बाद कहा, ‘PNB की अपनी मौजूदा हिस्सेदारी बेचने की योजना नहीं है। PNB हाउसिंग फाइनेंस की ओर से PNB ब्रांड का इस्तेमाल जारी रहेगा।’दिसंबर क्वॉर्टर में PNB हाउसिंग फाइनेंस का नेट प्रॉफिट 22 पर्सेंट गिरकर 237 करोड़ रुपये रहा। क्रेडिट ग्रोथ कम रहने से कंपनी के प्रॉफिट पर असर पड़ा है।

गुप्ता ने बताया कि नेट प्रॉफिट में कमी के पीछे मुश्किलों का सामना कर रहे तीन कॉरपोरेट एकाउंट के लिए 240 करोड़ रुपये का क्रेडिट लॉस प्रोविजन, लोन डिस्बर्समेंट में कमी और अतिरिक्त लिक्विडिटी जैसे कारण हैं।PNB हाउसिंग फाइनेंस का नेट इंटरेस्ट मार्जिन घटकर 2.98 पर्सेंट रहा, जो पांच क्वॉर्टर्स में सबसे कम है। कंपनी की बकाया लोन बुक कम होकर 69,194 करोड़ रुपये रह गई। यह मार्च 2019 में 74,023 करोड़ रुपये की थी।इसकी नेट इंटरेस्ट इनकम 1.4 पर्सेंट बढ़कर 566 करोड़ रुपये रही। ग्रॉस नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स रेशियो दिसंबर के अंत में लोन एसेट्स के 1.75 पर्सेंट पर रही। एक वर्ष पहले की इसी अवधि में यह 0.47 पर्सेंट की थी।