Arthgyani
होम > न्यूज > कोरोना इफ़ेक्ट: PM के आश्वासन के बाद भी बढ़ें राशन-सब्जियों के दाम

कोरोना इफ़ेक्ट: PM के आश्वासन के बाद भी बढ़ें राशन-सब्जियों के दाम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आम लोगों से की थी जरुरी सामान स्टॉक न करने की अपील

कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थिति की वजह से स्थिति बेकाबू होने के कगार पर है| कल सोमवार को एकमात्र दिन में सौ के लगभग मामलें सामने आए हैं और इससे कोरोना वायरस से प्रभावित लोगों की संख्या पांच सौ के नजदीक हो गई है| इस बात का सबसे ज्यादा दुष्प्रभाव जरुरी सामान के मूल्य पर देखने को मिल रहा है| जरुरी सामानों में हरी सब्जियों के मूल्य में तो 100% से ज्यादा की बढ़त देखने को मिल रही है| वहीं खुदरा राशन के सामानों में भी पचास प्रतिशत तक का इजाफा देखा जा रहा है| हालांकि MRP प्रिंट में कोई ज्यादा इजाफा तो नहीं देखने को मिल रहा है, मगर सामानों के किल्लत की वजह से राशन की दुकानों में मूल्य वृद्धि के साथ सेल किया जा रहा है|

डर से लोगों ने किए घरों में स्टॉक 

ज्ञात हो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस के जनता कर्फ्यू वाले संबोधन में लोगों से जरुरी सामानों की किल्लत नहीं होने देने का आश्वासन दिया था, मगर इसके बाद भी बाज़ार में कई जरुरी सामानों की भारी किल्लत देखने को मिल रही है| हालांकि यह निश्चित होकर नहीं कहा जा सकता इस किल्लत के पीछे कौन से कारण जिम्मेदार है| यह किल्लत सप्लाई में कमी कारण है या लोगों के द्वारा डर की वजह से घरों में सामानों को स्टॉक करने की वजह से, यह विचार करने वाला प्रश्न है| वैसे भी सरकार बाज़ार में जमाखोरी पर तो रोक लगा सकती है, मगर आम लोगों के द्वारा घरों में स्टॉक करने पर तो रोक नहीं लगा सकती है|

भविष्य में और भी हो सकती है मूल्य वृद्धि 

विदित हो कि देश के विभिन्न राज्यों और क्षेत्रों में कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन की में आम लोगों के आवजाही पर तो रोक लगाईं गई है, मगर जरुरी सामानों के माल ढुलाई के लिए सरकार से पूर्ववत व्यवस्था जारी रखी है| मगर ध्यान देने वाली बात है कि सरकार लाख कोशिश कर ले मगर जिस प्रकार से स्थिति में परिवर्तन हो रहा है, उससे भविष्य में भले ही जरुरी सामानों की सप्लाई पूर्ववत रहे मगर मूल्य में वृद्धि हुई है और भविष्य में भी होती रहेगी, जबतक की स्थिति नियंत्रण में न आ जाए|