Arthgyani
होम > न्यूज > एयर इंडिया की डूबती नैया को पार लगायेंगे राजीव बंसल

एयर इंडिया की डूबती नैया को पार लगायेंगे राजीव बंसल

अश्विनी लोहानी के बाद राजीव बंसल बने CMD

एयर इंडिया के चीफ मैनेजिंग डायरेक्टर को बदल दिया गया है। अश्विनी लोहानी की जगह वरिष्ठ आईएएस अधिकारी राजीव बंसल को एयर इंडिया का नया चीफ मैनेजिंग डायरेक्टर नियुक्त किया गया है। बंसल 1988 बैच के नागालैंड कॉडर के आईएएस अधिकारी हैं। वर्तमान में वह पेट्रोलियम ऐंड नैचुरल गैस मंत्रालय के अडिशनल सेक्रेटरी थे। अश्विनी लोहानी का कार्यकाल समाप्त होने के बाद राजीव बंसल को उनकी जगह पर नियुक्त किया गया है।

नए चीफ मैनेजिंग डायरेक्टर के सामने कड़ी चुनौतियां हैं। राजीव बंसल के सामने एयर इंडिया के विनिवेश को सही तरीके से कराने की बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। सरकार ने एयर इंडिया में 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का ऐलान किया था। 17 मार्च बोली जमा करने की तारीख है। उसके बाद आगे की प्रक्रिया अपनाई जाएगी। बता दें पिछले साल सरकार ने 76 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का फैसला किया था, लेकिन उसे निवेशक नहीं मिल पाए थे।

80 हजार करोड़ का कर्ज एयर इंडिया पर

अश्विनी लोहानी को फरवरी 2019 में उन्हें इस मकसद से एयर इंडिया में वापस लाया गया था कि वह डूब रही एयर इंडिया का बेड़ा पार लगाएंगे, लेकिन वह असफल रहे। लोहानी अगस्त 2017 से सितंबर 2017 के बीच भी एयर इंडिया के प्रमुख बनाए गए थे।

एयर इंडिया पर करीब 80 हजार करोड़ का कर्ज है। वित्त वर्ष 2018-19 में एयर इंडिया को 8,556 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था। 7 जनवरी को गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में बने एक मंत्री समूह (ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स) ने निजीकरण से जुड़े प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। एयर इंडिया और एयर इंडिया एक्सप्रेस में 100 पर्सेंट शेयर सरकार के पास ही हैं।

एक झलक:

  • एयर इंडिया के चीफ मैनेजिंग डायरेक्टर को बदल दिया गया है।
  • अश्विनी लोहानी की जगह वरिष्ठ आईएएस अधिकारी राजीव बंसल को एयर इंडिया का नया चीफ मैनेजिंग डायरेक्टर नियुक्त किया गया है।
  • बंसल 1988 बैच के नागालैंड कॉडर के आईएएस अधिकारी हैं।
  • वर्तमान में वह पेट्रोलियम ऐंड नैचुरल गैस मंत्रालय के अडिशनल सेक्रेटरी थे।
  • अश्विनी लोहानी का कार्यकाल समाप्त होने के बाद राजीव बंसल को उनकी जगह पर नियुक्त किया गया है।
  • एयर इंडिया पर करीब 80 हजार करोड़ का कर्ज है।
  • वित्त वर्ष 2018-19 में एयर इंडिया को 8,556 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था।
  • 7 जनवरी को गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में बने एक मंत्री समूह (ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स) ने निजीकरण से जुड़े प्रस्ताव को मंजूरी दी थी।
  • एयर इंडिया और एयर इंडिया एक्सप्रेस में 100 पर्सेंट शेयर सरकार के पास ही हैं।