Arthgyani
होम > न्यूज > ROSSARI बायोटेक ने 700 करोड़ के IPO के लिए किया आवेदन

ROSSARI बायोटेक ने 700 करोड़ के IPO के लिए किया आवेदन

रोसारी बायोटेक कपड़े, मकान और व्यक्तिगत देखभाल से जुड़े उत्पादों के लिये विशेष प्रकार के रसायन बनाने वाली कंपनी है

विशेष रसायनों की निर्माता कंपनी रोसारी बायोटेक लिमिटेड ने अपने IPO लाने की तैयारी शुरू कर दी है| इसके लिए कंपनी ने नियामक बोर्ड सेबी (भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड) के पास IPO से संबंधित मसौदा प्रोस्पेक्टस DRHP (draft red herring prospectus) जमा कराया है|

ज्ञात हो कि ROSSARI ने अपना व्यवसाय 1996 में शुरू किया, जो 2016 में और 2008 में एक स्टार एक्सपोर्ट हाउस के रूप में विकसित हो गया| ROSSARI को उच्चतम प्रदर्शन क्षमता और उच्च वित्तीय ताकत के लिए CRISIL से ‘SE-1A’ रेटिंग प्राप्त है| ROSSARI का Buzil, Unilever, HYDRA ITALIA & CYRA CHEM के साथ संयुक्त उद्यम कारोबार है| इसके उत्पाद दुनिया भर के 17 देशों को नियमित रूप से निर्यात हो रहे हैं|

कंपनी का 700 करोड़ रुपए जुटाने की है योजना

सेबी के पास जमा विवरण पुस्तिका के अनुसार IPO में 150 करोड़ रुपए मूल्य के ताजा शेयर जारी किए जाएंगे| इसके अलावा कंपनी के प्रवर्तक 1.05 करोड़ ओपन शेयर बिक्री पेशकश के लिए लाने की योजना है| बाजार सूत्रों के अनुसार IPO का साइज़ 700 करोड़ रुपए का हो सकता है| कंपनी की IPO के जरिए जुटाई राशि का उपयोग कर्ज के भुगतान, कार्यशील पूंजी जरूरतों के वित्त पोषण और कंपनी के सामान्य कार्यों के लिए करने की योजना है| कंपनी का शेयर नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) और BSE दोनों सूचकांकों में सूचीबद्ध होगा|

मुनाफे का उपयोग

कंपनी का लक्ष्य IPO से प्राप्त धन से कर्ज चुकाने के लिए 65 करोड़ रुपए का उपयोग करना है| वहीं कार्यशील पूंजी की आवश्यकताओं को पूर्ति के लिए 50 करोड़ रुपए का उपयोग करना और बाकी राशि का उपयोग कंपनी सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों और विस्तार के लिए करने वाली है|

आईपीओ के लिए रोसारी के बैंकर्स

रोसारी बायोटेक के आईपीओ के शेयर बिक्री की व्यवस्था और प्रबंधन करने वाले व्यापारी बैंकर एक्सिस कैपिटल और ICICI सिक्योरिटीज हैं| एक्सलसस फिनसर्व प्राइवेट लिमिटेड समग्र प्रस्ताव के सलाहकार हैं|

कंपनी का कारोबार और इतिहास

रोसारी कंपनी को मूल रूप से मार्च 2003 में एक साझेदारी फर्म, रोसारी लैबटेक के रूप में शामिल किया गया था| यह FMCG, परिधान, मुर्गी पालन और पशु चारा उद्योगों में कच्चे माल के रूप में इस्तेमाल किए जाने वाले विशेष रसायन बनाती है| इसके उत्पाद पोर्टफोलियो में घर, व्यक्तिगत देखभाल और प्रदर्शन रसायन शामिल हैं; कपड़ा विशेषता रसायन; और पशु स्वास्थ्य और पोषण उत्पाद| सितंबर 2019 को समाप्त हुए छमाही में अपने कुल राजस्व में घर और व्यक्तिगत देखभाल खंड की हिस्सेदारी 46% थी, जबकि कपड़ा विशेषता रसायन का हिस्सा लगभग 45% था|

कंपनी की सिलवासा सुविधा में एक वर्ष में 100,000 टन की स्थापित क्षमता है| यह मार्च 2021 तक 20,000 टन की एक और क्षमता जोड़ रहा है| इसके अलावा, कंपनी का लक्ष्य 2020-21 में 132,500 टन की प्रस्तावित वार्षिक स्थापित क्षमता के साथ गुजरात स्थित दहेज नामक स्थान पर एक कारखाने को चालू करना है| इसके प्रस्ताव में सिलवासा और मुंबई में दो अनुसंधान और विकास सुविधाएं स्थापित करनी भी हैं| कंपनी के पास भारत में 194 डिस्ट्रीब्यूटर्स का नेटवर्क है और सितंबर 2019 तक 17 विदेशी देशों में 27 डिस्ट्रीब्यूटर्स हैं| रोसारी के कस्टमर्स में IFB Industries Ltd, Hindustan Unilever Ltd और Arvind Ltd. जैसी कंपनियां शामिल हैं|

कंपनी का खाता-बही 

कंपनी ने सितंबर 2019 को समाप्त छमाही रिपोर्ट में 278.14 करोड़ रुपए के परिचालन राजस्व पर 31.9 करोड़ रुपए के शुद्ध लाभ को समेकित करने की सूचना दी थी| वहीं इसका पूरा वित्तीय वर्ष 2018-19 में समेकित शुद्ध लाभ 516.21 करोड़ रुपये के राजस्व पर 45.68 करोड़ रुपए था|

विदित हो कि पिछले कुछ समय से बायोटेक कंपनियों ने भारत में अच्छा कारोबार किया है और रोसारी बायोटेक के कारोबारी इतिहास और लाभ प्रवृति को देखते हुए लगता है कि इसके IPO को बम्पर ओपनिंग मिल सकती है| अब यह देखना दिलचस्प होगा कि सेबी इसके शेयरों के लिए कब हरी झंडी दिखाती है|