Arthgyani
होम > न्यूज > भारतीय स्टेट बैंक ने शुरू की कम ब्याज पर छोटे लोन की सुविधा

भारतीय स्टेट बैंक ने शुरू की कम ब्याज पर छोटे लोन की सुविधा

एसबीआई बैंक ने छोटे लोन के लिए अलग विभाग का गठन किया है।

भारतीय स्टेट बैंक सभी क्षेत्रों में लोन उपलब्ध करवाता है। एसबीआई बैंक बड़े से बड़े लोन भी उपलब्ध करवाता है। फिलहाल एसबीआई बैंक छोटे लोन देने की योजना भी शुरू कर रहा है। मतलब माइक्रोफाइनेंस में प्रवेश कर रहा है। एसबीआई बैंक का मानना है की इस कदम से काफी हद तक आर्थिक स्थिति से निपटा जाएगा।

एसबीआई बैंक इस सभी छोटे दूकानदारों को रिक्शा चालकों, दर्जी का काम करने वालों को ध्यान में रख कर छोटे लोन की योजना की शुरुआत कर रहा है। एसबीआई का मानना है की छोटे दुकानदारों और रिक्शा चालकों को अगर लोन दिया जाता है इससे उनकी भी आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा और भारत की अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिलेगी।

माइक्रो फाइनेंस लोन से मिलेगा लाभ 

एसबीआई बैंक ने छोटे लोन के लिए अलग विभाग का गठन किया है। इस विभाग के लिए डिप्टी प्रबंधन निदेशक ने एक टीम तैयार की है। उन्होंने कहा बहुत जल्द छोटे लोन को देना शुरू किया जाएगा। डिप्टी प्रबंधन केवी हरिदास ने कहा एसबीआई बैंक की रिटेल और कॉर्पोरेट बाजार में अच्छी पकड़ है।

एसबीआई ने फिलहाल माइक्रो कर्ज की शुरुआत करने का फैसला लिया है।  इसका असर छोटे और गरीब लोगों के जीवन पर पड़ेगा।  उनका जीवन स्तर भी उभरेगा उनको काम करने के अच्छे अवसर बनेगे। एसबीआई बैंक का कहना है की हम बहुत सी सरकारी योजनाओं में सहयोग कर रहे हैं। अब की बार माइक्रो कर्ज की शुरुआत लोगों तक पहुँचाने का काम करेंगे।

8000 शाखाओं से शुरू की योजना 

एसबीआई बैंक ने 8,000 शाखाओं में इस योजना की शुरुआत की है।  इस योजना के तहत इन शाखाओं से चायवालों रिक्शावालों और दर्जी का काम करने वालों को आसानी से लोन उपलब्ध हो जाएगा।  इन सभी को कम से कम ब्याज पर लोन उपलब्ध करवाया जाएगा। एसबीआई बैंक इस योजना की शुरुआत सबसे पहले पटियाला से कर रहा है।

माइक्रो फाइनेंस की शुरुआत करने वाला एसबीआई बैंक पहला बैंक है। माइक्रो फाइनेंस की अभी तक बड़ी हिस्सेदारी बंधन बैंक के पास थी।  बंधन बैंक 17.95 प्रतिशत ब्याज दर के साथ लोन उपलब्ध करवाता है। अगर हम निजी बांको की बात करें तो, एचडीएफसी बैंक और एक्सिस बैंक 20 प्रतिशत की ब्याज दर पर लोन देते हैं। माइक्रो फाइनेंस क्षेत्र से 5.64 करोड़ ग्राहक जुड़े हुए हैं।