Arthgyani
होम > न्यूज > ZEE के नाममात्र के मालिक रहे सुभाष चंद्रा

ZEE के नाममात्र के मालिक रहे सुभाष चंद्रा

एस्सेल ग्रुप अपना 16.5% हिस्सा बेचने को हुआ तैयार

सुभाष चंद्रा का एस्सेल ग्रुप अपनी फ्लैगशिप कंपनी zee एंटरटेनमेंट की 16.5% हिस्सेदारी वित्तीय कर्जदाताओं को बेचेगा, ताकि अपनी देनदारियां को पूरी कर सके|  कंपनी ने बुधवार को ये जानकारी दी| 2.3% शेयर OFI ग्लोबल चाइना फंड को बेचने की योजना है| इन ट्रांजेक्शंस के बाद जी एंटरटेनमेंट में प्रमोटर्स की हिस्सेदारी मात्र 5% रह जाएगी| एस्सेल ग्रुप इस साल की शुरुआत से नकदी संकट से जूझ रहा है|  समूह ने कर्ज चुकाने के लिए प्रमोटर शेयरों समेत कई संपत्तियां बेचीं पर काम नहीं बना| अब उसे अपने 21.5% में से 16.5% हिस्सा बेचना पड़ रहा है| ग्रुप ने कहा है कि उसके और भी मीडिया और नॉन मीडिया एसेट्स बेचने के लिए कोशिशें जारी हैं। विदित हो की जबसे प्रमोटर कंपनी IL&FS डूबी है तबसे ही सुभाष चंद्रा विवादों में है और उन्होंने माफ़ी मांगते हुए एक पत्र जारी किया था| 

5% से भी कम बच जाएगी हिस्सेदारी 

इकोनॉमिक्स टाइम्स और भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक ZEE एंटरप्राइजेज (ZEE) के प्रमोटर्स लेंडर्स का बकाया चुकाने के लिए देश की सबसे बड़ी लिस्टेड मीडिया कंपनी में 16.5% हिस्सेदारी बेचने के प्रयास में हैं| कंपनी के प्रमोटरों का जितना शेयर बिकना तय हुआ है, उनमें से 15.72% तक शेयर गुरुवार को ब्लॉक डील में बिकेगा| कंपनी ने कहा कि अगले दौर की सेल के बाद ZEE में प्रमोटरों का हिस्सा 5% रह जाएगा और उसमें से भी इसका लगभग 1.1% हिस्सा गिरवी रहेगा| 

टर्म शीट के मुताबिक तीन प्रमोटर कंपनियां EMVL, Cyquator और एस्सेल कॉरपोरेट क्रमश: 7.7 करोड़, 6.1 करोड़ और 1.1 करोड़ शेयर बेचेंगी जो कंपनी के कुल 15.72% इक्विटी बेस के बराबर है|  ZEE के शेयर 277 रुपये की दर से बेचे जाएंगे जो बुधवार को कंपनी के 307 रुपये के क्लोजिंग प्राइस से 10% कम है| फ्लोर प्राइस के हिसाब से ZEE के 15.72% की वैल्यू 58.2 करोड़ डॉलर (लगभग 4,132 करोड़ रुपये) होती है| गुरुवार के प्रस्तावित ब्लॉक डील्स की बुक रनर सिटी ग्रुप है| 

एस्सेल ग्रुप पर है 6,000 करोड़ रुपए का कर्ज

स्टॉक एक्सचेंजों को अलग से दी सूचना में ZEE के प्रमोटरों ने कहा कि उन्होंने जो 16.5% तक की इक्विटी बेचने की योजना बनाई है, उसमें से लगभग 2.3% स्टेक इन्वेस्को ओपनहाइमर डिवेलपलिंग मार्केट्स फंड की सब्सिडियरी OFI ग्लोबल चाइना फंड को बेचा जाएगा| इस मीडिया कंपनी में OFI ग्लोबल चाइना का पहले से ही स्टेक है| 30 जुलाई को ZEE के प्रमोटर्स ने इनवेस्को ओपनहाइमर को 400 रुपये प्रति शेयर की दर से 4,224 करोड़ रुपये से कंपनी में 11% तक स्टेक बेचने का करार किया था| उस ट्रांजैक्शन में कंपनी के प्रमोटरों ने उसमें अपनी 8.7% हिस्सेदारी बेची थी| सूत्रों से प्राप्त सुचना के अनुसार कहा जा रहा है कि कुछ फॉरेन इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स (FII) ब्लॉक डील्स में पार्टिसिपेशन के लिए पहले से ही कमिटमेंट कर चुके हैं| 

पुनीत गोयनका बने रहेंगे कंपनी के सीईओ और एमडी

एक उच्च पदस्थ सूत्र ने कहा, ‘ये डील्स कमोबेश पक्की हो चुकी हैं| ZEE के प्रमोटर्स ब्लॉक डील्स के जरिए कंपनी में 15.72% स्टेक बेचेंगे जबकि बाकी शेयर ऑफ मार्केट ट्रांजैक्शन के जरिए बिकेंगे| प्रमोटर्स के पास कंपनी में 5% स्टेक बचा रहेगा और पुनीत गोयनका उसके एमडी और सीईओ बने रहेंगे|’ कंपनी के प्रमोटर सुभाष चंद्रा और उनके फैमिली ऑफिस को म्यूचुअल फंड्स और रूस के सरकारी सपोर्ट वाले बैंक VTB सहित कई डोमेस्टिक लेंडर्स को 7,000 करोड़ रुपये से ज्यादा रकम चुकानी है| 

पहले भी जताई गई थी संभावना 

पहले भी खबर आई थी की कि ZEE के प्रमोटर्स कंपनी में अपनी 10-11% हिस्सेदारी बेचने के लिए तीन FII से बात कर रहे हैं| तब से अब तक कंपनी के शेयरों का दाम खासा गिरा है इसलिए प्रमोटर्स को अब उसमें अपनी ज्यादा हिस्सेदारी बेचनी पड़ रही है| 30 सितंबर को ZEE में प्रमोटर्स का स्टेक 22.37% था और उसका 96% हिस्सा लेंडर्स के पास गिरवी पड़ा था|  VTB कैपिटल के पास कंपनी के 10 करोड़ से ज्यादा शेयर हैं जो उसकी 10.71% इक्विटी के बराबर हैं| 

2 महीने पहले भी 4224 करोड़ रुपए में 11% शेयर  बेचे थे

जी एंटरटेनमेंट में एस्सेल ग्रुप की कंपनियों की 22.37% हिस्सेदारी है|  इसमें से 21.48% शेयर गिरवी रखे हैं| एस्सेल ग्रुप पर 6,000 करोड़ रुपए का कर्ज है|  एस्सेल ग्रुप ने सितंबर में भी जी एंटरटेनमेंट के 11% शेयर इन्वेस्को ओपेनहाइमर फंड को 4,224 करोड़ रुपए में बेचे थे| इन्वेस्को के पास जी एंटरटेनमेंट की 7.74% हिस्सेदारी पहले से थी| 

जी एंटरटेनमेंट का शेयर बुधवार को 8% चढ़ा

BSE पर शेयर 7.49% बढ़त के साथ 307.15 रुपए पर बंद हुआ| NSE पर 8.12% तेजी के साथ 309.05 रुपए पर कारोबार खत्म किया| एस्सेल ग्रुप ने जी एंटरटेनमेंट में हिस्सेदारी बेचने की योजना की जानकारी शेयर बाजार बंद होने के बाद दी| इस ऐलान का शेयर पर असर शुक्रवार को होने के आसार हैं|